कोई कहता है पैसा तो हाथ की मैल है। दूसरा कहता है यह सब हमारे बड़े बुजुर्गों का ढकोसला था और सभी पैसे के पीछे भागते रहे हैं। कुबेर का खजाना, कारूं का खजाना, गड़ा हुआ धन, पैसे का पेड़। न जाने कैसी-कैसी मान्यताएं रहीं हैं अपने यहां। सब समय-समय की बात है। समय बदल चुका है, पैसे की हकीकत भी बदल चुकी है। खुदाई में मिले धन की खबर पुलिस को नहीं दी तो जेल जानाऔरऔर भी

मुद्रा को अंग्रेजी में मनी कहते हैं जो खुद लैटिन के शब्द मोनेटा से निकला है। इटली को लोक कथाओं के अनुसार मोनेटा स्वर्ग की रानी, देवी जूनों का शुरुआती नाम है। प्राचीन काल में रोम में सिक्कों की ढलाई का काम भी जूनों के मंदिरों में होता था। शायद यही चलन मोनेटा से होते हुए मनी तक पहुंचने का सबब बन गया। आज तो मुद्रा को रेलवे स्टेशन पर शंटिंग करनेवाले इंजिन की तरह मानते हैंऔरऔर भी

“हम उस दौर में रह रहे हैं जहां समय भी पूंजी है और कोई भी जीवन की दौड़ में किसी से पीछे रहने को तैयार नहीं हैं। लेकिन इस भागमभाग में समय को नाथना जरूरी है। उसका नियोजन जरूरी है। नहीं तो समय बड़ी बेरहमी से हमें कुचलता हुआ आगे निकल जाता है।”और भीऔर भी