यूं तो कल का अनुमान लगाना बहुत मुश्किल है। लेकिन अगर सारे कारक आपकी नजर में हैं और उनके बीच के समीकरण की समझ आपको है तो आप बाजार की अगली दिशा का सटीक अनुमान लगा सकते हैं। ज्योतिष और बाजार में यही फर्क है। लेकिन कुछ कारक भी नजर से ओझल रह गए तो अनुमान का गलत होना तय है। इस लिहाज से गोल्डमैन सैक्स की घटना के असर का जो भी आकलन हमने किया था,औरऔर भी

सेरा सैनिटरीवेयर आज सुबह से ही गर्दन तानकर बढ़ रहा है। सुबह खुला तो शुक्रवार के बंद भाव 249.95 रुपए से थोड़ा गिरकर 249.50 रुपए पर। लेकिन 10 बजे तक 4 फीसदी बढ़त लेकर 260 रुपए तक जा पहुंचा। असल में आज कंपनी के चौथी तिमाही के नतीजे आनेवाले हैं और उम्मीद है कि उसका ईपीएस (प्रति शेयर लाभ) 32 से 34 रुपए हो जाएगा। अभी 2008-09 के नतीजों के आधार पर कंपनी का ईपीएस 21.15 रुपएऔरऔर भी

केवल बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) में सूचीबद्ध कंपनी स्टाइलम इंडस्ट्रीज में कुछ तो खेल चल रहा है। कल इसका शेयर 40.95 पर बंद हुआ था। आज सुबह साढ़े नौ बजे के आसपास केवल दो शेयरों का सौदा हुआ और भाव गिरकर 39.20 पर आ गया। उसके बाद फिर अचानक 400 शेयरों का सौदा हुआ और भाव कूदकर 41.30 पर आ गए। इससे पहले बल्क सौदों में बडी डील 12 अप्रैल को एक लाख शेयरों की बिक्री कीऔरऔर भी

राठी बार्स को हमने कल खरीदने की सलाह दी थी और आज वह कल के बंद भाव 16.15 रुपए से 9.97 फीसदी बढ़कर 17.76 रुपए पर पहुंचा तो उस पर 10 फीसदी का ऊपरी सर्किट ब्रेकर लग गया। केवल आज ही इसमें 15.25 लाख शेयरों के सौदे हुए हैं। इससे पहले 13 अप्रैल को उसमें 12.07 लाख शेयरों के सौदे हुए थे। असल चर्चा यह है कि उत्तर भारत की एक बड़ी स्टील कंपनी इसमें प्रवर्तकों कीऔरऔर भी

अक्टूबर 2007 में राठी बार्स ने पब्लिक इश्यू में 35 रुपए के मूल्य पर अपने शेयर जारी किए थे। इसके बाद न तो उसने कोई डिविडेंड दिया है न ही बोनस शेयर जारी किए हैं। कंपनी की चुकता पूंजी तब भी 16.33 करोड़ रुपए थी और अब भी उतनी ही है। इसमें प्रवर्तक राठी परिवार की हिस्सेदारी 57.39 फीसदी है। लेकिन मंगलवार को बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) में उसके शेयर 17.40 रुपए पर पहुंचे तो यह उसकेऔरऔर भी

बाजार में सरकारी कंपनी गैल इंडिया के शेयरों में जमकर सौदे हो रहे हैं। कारोबार के पहले घंटे में ही एनएसई में इसके 6.20 लाख और बीएसई में 67 हजार शेयरों के सौदे हुए हैं। आज शेयर में खास उठान अभी तक नहीं दिखी है। पहले अनुमान था कि आज यह शेयर बढ़कर 420 रुपए के आसपास खुलेगा। मंगलवार को बीएसई में यह 411.10 रुपए और एनएसई में 410.95 रुपए पर बंद हुआ था। लेकिन फिलहाल इसकेऔरऔर भी

बाजार गिरावट के साथ खुला। लेकिन एनआरबी बियरिंग्स में सुबह से चाल दिख रही है। शुक्रवार को यह शेयर बीएसई में 83.80 रुपए पर बंद हुआ था। लेकिन आज खुला ही 2 रुपए बढ़कर 85.80 रुपए पर। फिर यह छलांग लगाकर 87.30 तक पहुंच गया जो पिछले 52 हफ्तों का उसका उच्चतम स्तर है। हालांकि बाद में थोड़ी गिरावट का रुख दिखाई दिया। कंपनी के शेयर का 52 हफ्तों का न्यूनतम स्तर 33.75 रुपए रहा है जोऔरऔर भी

शेयर बाजार में जबरदस्त चर्चा है कि आईएफसीआई को दो दिन के भीतर रिजर्व बैंक से बैंक बनाने का लाइसेंस मिलनेवाला है और अगले हफ्ते बाकायदा इसकी घोषणा हो जाएगी। इस चक्कर में सटोरिये बड़े पैमाने पर आईएफसीआई की खरीद में जुट गए हैं। मामला कितना सच है कितनी अफवाह, इस बारे में रिजर्व बैंक की तरफ से कोई भी कुछ बोलने को तैयार नहीं है। लेकिन इन अटकलों के बीच हो यह रहा है कि आईएफसीआईऔरऔर भी

आदित्य बिड़ला केमिकल्स लगातार पांच सालों से डिविडेंट (लाभांश) देनेवाली कंपनी है। पिछले तीन सालों में 10 रुपए अंकित मूल्य के शेयर उसने 1.5 रुपए यानी 15 फीसदी का लाभांश दिया है। कंपनी का शेयर इसी साल 8 जनवरी 2010 को 102.55 रुपए के शिखर पर पहुचा था, जबकि साल भर पहले 8 अप्रैल 2009 को वह 39.15 रुपए के न्यूनतम भाव पर था। इस 8 अप्रैल को बीएसई में उसका शेयर 1.81 फीसदी घटकर 86.60 रुपएऔरऔर भी

कावेरी टेलिकॉम प्रोडक्ट्स में इस समय आग-सी लगी हुई है। बुधवार को सुबह नौ बजे के आसपास इसमें खरीद की सलाह आई और सीधे खुला ही पिछले बंद भाव 90.60 रुपए से 2.40 रुपए बढ़कर 93 रुपए पर। फिर पौने दस नहीं बजे थे कि यह 4.50 रुपये की बढ़त के साथ 52 हफ्तों के शिखर 95.10 रुपए पर जा पहुंचा। चूंकि यह बढ़त पिछले बंद भाव से 4.97 फीसदी अधिक है तो 5 फीसदी सर्किट ब्रेकरऔरऔर भी