विश्व कप का जुनून अपनी जगह, पर बाजार के वोल्यूम पर खास फर्क नहीं

सारा देश भले ही दोपहर ढाई बजे से मोहाली में भारत-पाकिस्तान के बीच हो रहे विश्व कप क्रिकेट मैच का सेमी फाइनल देखने बैठ गया हो, लेकिन शेयर बाजार के कारोबार पर इसका ज्यादा फर्क नहीं पड़ा है। कारोबारियों ने मैच शुरू होने से पहले ही ज्यादातर सौदे निपटा लिए थे।

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) के आंकड़ों के अनुसार आज बुधवार को कैश सेगमेंट में 54,65,699 सौदे हुए जिनमें 73.31 करोड़ शेयरों का लेनदेन हुआ और कुल वोल्यूम रहा 12390.52 करोड़ रुपए का। कल मंगलवार को मैच से एक दिन पहले वहां कैश सेगमेंट में 59,87,136 सौदे हुए थे जिनमें 69.66 करोड़ शेयरों का लेनदेन हुआ था और कुल वोल्यूम 13,337.15 करोड़ रुपए का था। इन आंकड़ों से साफ है कि कैश सेगमेंट के वोल्यूम पर ज्यादा फर्क नहीं पड़ा है, बल्कि आज ट्रेड हुए शेयरों की संख्या कल से अधिक ही रही है।

एनएसई के डेरिवेटिव सेगमेंट की बात करें तो एफ एंड ओ में कुल 54,37,201 सौदे हुए जिनमें हुआ कारोबार 1,53,343.82 करोड़ रुपए का रहा। कल मंगलवार को एफ एंड ओ में 63,15,797 सौदों के जरिए 1,76,382.22 करोड़ रुपए का कारोबार हुआ था। इस तरह जहां सौदों की संख्या में 13.91 फीसदी की कमी आई, वहीं कारोबार की रकम 13.06 फीसदी घट गई है। लेकिन कारोबार में इतनी ऊंच-नीच का होना एकदम सामान्य है और इसमें विश्व कप क्रिकेट के जुनून का कोई योगदान नहीं है। बल्कि, इस महीने अब तक के 21 कारोबारी सत्रों में से 16 कारोबारी सत्रों में एनएसई के डेरिवेटिव सेगमेंट में हुआ कारोबार आज से कम रहा है।

बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) में भी कमोबेश ऐसी ही स्थिति रही। आज वहां कैश सेगमेंट में हुआ कुल वोल्यूम 3105.13 करोड़ रुपए का था, जबकि यह रकम कल मंगलवार को 3744.99 करोड़ रुपए थी। आज जहां कुल 15,87,705 सौदों में 32.48 करोड़ शेयरों की खरीद-फरोख्त हुई, वहीं कल 17,59,360 सौदों में 37.99 करोड़ शेयरों का लेनदेन हुआ था। असल में यह भी कोई चौंकानेवाली बात नही है क्योंकि बीएसई का औसत ऐसा ही रहता है। बीएसई के एफ एंड ओ की तो बात ही करना बेकार है क्योंकि वहां इस सेगमेंट में हुए सौदे एक दिन में 10 लाख रुपए का भी आंकड़ा नहीं पार कर पाते।

प्रमुख ब्रोकिंग फर्म एंजेल ब्रोकिंग के सीएमडी दिनेश ठक्कर के मुताबिक ट्रेडर आमतौर पर 10 से 12 बजे के बीच पोजिशन ले लेते हैं और 12.30 से 2.30 बजे के बीच निकल जाते हैं। इसी अवधि में शेयर बाजार में दिन का अधिकतम वोल्यूम पैदा होता है। आज का मैच 2.30 बजे से शुरू हुआ तो जाहिरा तौर पर उसका सीधा असर शेयर बाजार के कारोबार पर नहीं पड़ना था।

हालांकि भारत-पाकिस्तान के मैच का अपना जुनून होता है। इससे पहले मोहाली में ही जब दोनों टीमों में 11 अगस्त 2007 को भिड़ंत हुई थी, तब बीएसई में हुआ वोल्यूम 41 करोड़ शेयरों से घटकर 35.5 करोड़ शेयरों पर आ गया था। इस तरह इसमें 13.41 फीसदी की कमी आई थी। आज भी बीएसई में वोल्यूम 37.99 करोड़ शेयरों से 14.5 फीसदी घटकर 32.48 करोड़ शेयरों पर आया है। लेकिन एनएसई के आंकड़ों को देखते हुए इसे कोई तव्जजो देना सही नहीं होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.