लोग सटीक ट्रेडिंग टिप्स के चक्कर में 25,000 रुपए/माह, साल के तीन लाख तक लुटाते हैं। ऊपर से दो लाख का घाटा। फिर रोते हैं कि हाय! मेरे पांच लाख गए। पहले तो टिप्स के चक्कर में पड़ने के बजाय ट्रेडिंग की पद्धति पकड़नी चाहिए। दूसरे, दस में सात सौदे भी गलत निकलें, तब भी आप हर महीने फायदा कमा सकते हैं। फॉर्मूला इतना-सा है कि रिस्क/रिटर्न अनुपात न्यूनतम 1:3 का रखें। अब 2013 की आखिरी ट्रेडिंग…औरऔर भी

शेयर/कमोडिटी में रोज़ाना लाखों लोग ट्रेडिंग करते हैं। इनमें 95% घाटा खाते हैं और 5% कमाते हैं। कारण, 5% प्रोफेशनल ट्रेडर हैं जो बुद्धि से ट्रेड करते हैं और बाकी 95% आम ट्रेडर भावना से। पहले को ख्याल रहता है कि सामने से कौन ट्रेड मार रहा है। दूसरे को होश नहीं कि आखिरकार सामने है कौन। किसी की टिप या अपने मन/इंट्यूशन से वो सौदा करता है। खुदा-न-खास्ता कभी कमाया तो आगे सब स्वाहा। अब आगे…औरऔर भी

साल या सालगिरह हमें समीक्षा का मौका देती है ताकि हम आत्ममुग्धता से ऊपर उठकर आनेवाली चुनौतियों को पकड़ सकें। आप जानते ही हैं, अवसर अक्सर चुनौतियों की शक्ल में सामने आते हैं। साल का आखिरी तथास्तु लिखते हुए हमें खुशी है कि हमने अब तक 38 में से 32 सलाहों में यह सेवा लेनेवालों का फायदा कराया है। अफसोस ज़रूर है कि बाकी छह में घाटा क्यों हुआ? लेकिन यही है अनिश्चितता और रिस्क। अब आगे…औरऔर भी

हालांकि शेयर बाज़ार में निवेश भी एक तरह की ट्रेडिंग है। फर्क बस चंद दिन, महीने और साल का है। फिर भी चूंकि साल का अंत है और तमाम ब्रोकर फर्में 2014 के टॉप-पिक्स जहां-तहां फेंकने लगी हैं तो सोचा कि हम भी आज निवेश की जांच-परख कर लें। आज हम तथास्तु में बताई गई ऐसी पच्चीस कंपनियों की सूची पेश कर रहे हैं जिन्होंने चंद महीनों में औसतन 25% से ज्यादा रिटर्न दिया है। इसमें अधिकतमऔरऔर भी

बड़ी सलाहकार फर्म है। इंट्रा-डे सलाह के 5000 रुपए महीना लेती है। डेरिवेटिव्स व फॉरेक्स में भी मार करती है। आजमाने के लिए कल मैंने उनकी सलाह ली। इंट्रा-डे में उन्होंने वोल्टास, टाटा मोटर्स व यूनियन बैंक को चुना। स्टॉप-लॉस की नौबत नहीं आई, पर तीनों लक्ष्य से रहे दूर। फिर भी आखिरी एसएमएस में उन्होंने ठोंका कि इन तीन कॉल्स में दिन की कमाई 4153 रुपए। कैसे और कितनी पूंजी पर? सोचते हुए बढ़ते हैं आगे…औरऔर भी