स्थिर शरीर से प्राण स्थिर होते हैं। स्थिर प्राण से बु्द्धि स्थिर होती है। स्थिर बुद्धि मन को संयत करती है। संयत मन चित्त को शांत करता है। शांत चित्त से ध्यान और ध्यान से योग सधता है।और भीऔर भी