खैरात नहीं, यहां चक्कर मुनाफे का

किसी जमाने में सेठ लोग धर्मशालाएं और कुएं खुदवाकर खैरात का काम करते थे। लेकिन आज कोई कंपनी किसी कल्याण के लिए नहीं, बल्कि शुद्ध रूप से मुनाफा कमाने के लिए बनती है। उसके काम से अगर किसी का भला होता है तो यह उसका बाय-प्रोडक्ट है, असली माल व मकसद नहीं। वो तो ऐन केन प्रकरेण ग्राहक या उपभोक्ता की जेब से नोट लगाने के चक्कर में ही लगी रहती है। बड़े-बड़े एमबीए और विद्वान उसे लोगों से नोट खींचने के इस काम में मदद देकर ग्राहक का नहीं, अपना कल्याण करते रहते हैं।

इसलिए गांठ बांध लें कि किसी भी कंपनी के होने का मूल मकसद है नोट बनाना। और, कंपनी को स्टॉक एक्सचेंजों में लिस्ट कराने का मकसद है, उसके स्वामित्व को जनता में बिखेर कर पूंजी की सुलभता व लाभ सुनिश्चित करना। और, कमाए गए लाभ को लाभांश या अन्य तरीकों से अपने शेयरधारकों तक पहुंचाना। अगर कोई लिस्टेड कंपनी लाभ नहीं कमा रही है तो उसके शेयरों में मूल्य खोजना खुद को धोखे में रखना या भयंकर रिस्क लेना है। किसी कंपनी का शेयर बढ़ेगा या नहीं, यह मोटे तौर पर तीन बातों से तय होता है। एक, कंपनी की कमाई या लाभ कितना बढ़ रहा है। दो, उससे आगे की अपेक्षाएं या उम्मीदें क्या हैं। और तीन, बाजार में उसको लेकर भावना क्या है, वह उसकी कितनी कद्र करता है। आइए देखते हैं कुछ अन्य बातें जो हमने इस हफ्ते जानी-समझीं…

  • चक्र का चक्कर प्रकृति में ही नहीं, शेयर बाजार में भी चलता है। बाजार सीधे नहीं भागता, बल्कि चक्रों में चलता है। जो उठा है, वो और उठने से पहले गिरेगा जरूर। इसे ही करेक्शन कहते हैं। इसी तरह कंपनी अगर मजबूत है और बढ़ रही है तो उसका गिरा हुआ शेयर जरूर बढ़ता है। हां, कंपनी ही अगर डूब रही है तो उसके शेयर को अंततः डूब जाने से ऑपरेटर भी नहीं बचा सकते। इसीलिए जिस तरह बैंक बराबर अपने डूबनेवाले ऋणों या एनपीए की शिनाख्त करते रहते हैं, उसी तरह ही हमें भी अपने पोर्टफोलियो से बिना कोई मोह पाले डूबनेवाली कंपनियों को निकालते रहना चाहिए।
  • अगर हम किसी चीज को नहीं जानते तो यह हमारी अपनी सीमा है। लेकिन हर चीज को कोई न कोई तो जानता ही है और इनमें से हर अच्छी चीज वाजिब भाव भी मिलता है। कंपनियां हमारी आंखों से ओछल रहकर काम करती रहती हैं। हम अनजान रहने के कारण उनकी विकास यात्रा का फल नहीं चख पाते। लेकिन हमारे जानने या न जानने से उनकी विकास यात्रा पर कोई फर्क नहीं पड़ता। वह यात्रा सतत जारी रहती है।
  • बैक्टीरिया व वायरस हर तरफ फैले रहते हैं। लेकिन जिनके शरीर का एम्यून सिस्टम या प्रतिरोध तंत्र मजूबत रहता है, उनका ये कुछ नहीं बिगाड़ पाते। हां, उनके भी शरीर को बैक्टीरिया व वायरस से बराबर युद्धरत रहना पड़ता है। इसी तरह कंपनियों को भी बराबर बदलते हालात व समस्याओं से दो-चार होना ही पड़ता है। प्रबंधन तंत्र दुरुस्त हो, नेतृत्व दक्ष हो तो कंपनी हर समस्या के बाद और निखरकर सामने आती है, जबकि प्रबंधन तंत्र खराब व कमज़ोर हो तो कंपनी का बेड़ा गरक हो जाता है।
  • कोई मानें या न माने, हम अब भी कहीं न कहीं दलितों व मुस्लिमों के प्रति सवर्ण और हिंदू मानसिकता से ग्रस्त हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.