गेल इंडिया चक्र के अगले उठाव तक

पहले घर एक-मंजिला हुआ करते थे। अब बहु-मंजिला होते हैं। पहले धन-दौलत सोने-चांदी के सिक्कों या बर्तनों के रूप में जमीन या दीवार में गाड़कर बचाई जाती है। अब लोग अपनी बचत बैंक एफडी, म्यूचुअल फंड या शेयरों जैसे अनाकार माध्यमों में लगाते हैं। पहले मुद्रास्फीति नहीं थी तो बचत जितना रखो, उतनी ही रहती थी। अब खोखली होती जाती है। इसलिए आप कमाकर बचाते हैं, यह पर्याप्त नहीं। आपकी बचत को भी कमा पड़ेगा। कम या ज्यादा, यह आपकी निवेश अक्ल व कौशल से तय होगा। बचत जब आपके लिए कमाती है, तब संपदा (वेल्थ) बनाती है। हम संपदा बनाने के इसी प्रयास में आपकी मदद के लिए हैं। एक पूरा चक्र है जिसे आपके साथ पकड़ने-समझने की कोशिश चल रही है।

हमने करीब डेढ़ साल पहले 13 अप्रैल 2010 को यहीं पर सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनी गेल इंडिया की चर्चा की थी। तब उसका दस रुपए अंकित मूल्य का शेयर 410 रुपए पर था। एक दिन बाद 15 अप्रैल को घटकर नीचे में 401.60 रुपए तक चला गया। इसके बाद बढ़ता-बढ़ता नौ महीने में 6 जनवरी 2011 को 535.85 के शिखर तक जा पहुंचा। करीब 30 फीसदी का रिटर्न। लेकिन फिर गिरा तो गिरते-गिरते 5 अक्टूबर 2011 को 401 रुपए तक गिर गया। 28 अक्टूबर 2011 को 445 रुपए तक जा पहुंचा। फिलहाल कल, 31 अक्टूबर को बीएसई (कोड – 532155) में 422.35 रुपए और एनएसई (कोड – GAIL) में 422.90 रुपए पर बंद हुआ है। इसके नवंबर फ्यूचर्स का भाव कल 425.95 रुपए रहा है।

साल-डेढ़ साल में गेल के शेयर की इस गति से फिर इस बात की पुष्टि होती है कि शेयरों के भाव चक्र में चलते हैं। नीचे-ऊपर-नीचे। गेल के संदर्भ में यह चक्र करीब दस महीने में खुद को दोहरा रहा है। कंपनी बड़ी है। उसे एशिया की सबसे बड़ी गैस यूटिलिटी कंपनी होने का सम्मान हासिल है। उसे खरोचें तो आ सकती हैं। लेकिन डायनासोर की तरह किसी दिन विलीन नहीं हो सकती। इसके बारे में बिना कुछ जाने अगर हम अभी निवेश कर दें तो साल भर के भीतर 25 फीसदी का रिटर्न कमा सकते हैं। ब्रोकरेज फर्म शेयरखान ने इसके नए उच्चतम स्तर 541 रुपए पर जाने का अनुमान पेश किया है। अगर हम 530 रुपए भी पकड़कर चलें तो अभी के स्तर से 25 फीसदी का रिटर्न बनता है।

गेल इंडिया में निवेश लंबे समय के लिए करना चाहिए। लेकिन चक्र की बात ध्यान रखें। इससे निपटने का तरीका यह होता है कि मान लीजिए, अभी आपने इसके 400 शेयर खरीद लिए। साल भर में इसके 25 फीसदी बढ़ने पर आपने इसके 100 शेयर बेच डाले तो बाकी 300 शेयरों की लागत घट गई। इसी तरह हर चक्र में एक हिस्सा बेचते जाना चाहिए और जब आपको लगे कि आपके बचे शेयरों की निवेश लागत लगभग शून्य हो गई है तब उन्हे रखकर निश्चित भाव से रिटायरमेंट तक बैठ जाइए।

हां, यहां बता दूं कि लांग टर्म कितने साल का होता है, इसका कोई वस्तुगत पैमाना नहीं है। इसलिए इसका पैमाना व्यक्तिगत बना लेना चाहिए। आपकी उम्र 35 साल की है और आपको 55 साल में रिटायर होना है तो आपके लिए लांग टर्म 20 साल का हुआ। किसी की उम्र 52 साल की है। उसे 60 साल में रिटायर होना है तो उसके लिए लांग टर्न आठ साल का हुआ। निवेश का मकसद यही है कि आपकी बचत में मुद्रास्फीति की सेंध न लगे और जब आप कमाना बंद करें, तब बचत से बनी आपकी संपदा आपके जीवित रहने तक आपकी देखभाल करती रहे। काश! अपने यहां यूरोप जैसी सामाजिक सुरक्षा होती तो हमें यह झंझट नहीं करना पड़ता। लेकिन सामाजिक सुरक्षा के ऐसे ही खर्चों ने वहां की सरकारों को कर्ज-संकट में फंसा दिया है। सरकारें खर्च घटा रही हैं तो लोग सड़कों पर उतरकर आंदोलन कर रहे हैं। इसलिए अपना भविष्य तो हमें खुद ही सुरक्षित करना पड़ेगा। इसे न तो भगवान भरोसे और न ही सरकार भरोसे छोड़ा जा सकता है।

गेल इंडिया के बारे में आज मैं आपको ज्यादा उलझाना नहीं चाहता। अभी पिछले हफ्ते 24 अक्टूबर को घोषित नतीजों के मुताबिक सितंबर 2011 की तिमाही में उसकी बिक्री 19.68 फीसदी बढ़कर 9699.02 करोड़ रुपए और शुद्ध लाभ 18.50 फीसदी बढ़कर 1094.41 करोड़ रुपए हो गया है। इस आधार पर उसका ठीक पिछले बारह महीनों (टीटीएम) का स्टैंड-एलोन ईपीएस (प्रति शेयर मुनाफा) 30.19 रुपए है। इस तरह उसका शेयर फिलहाल 13.98 के पी/ई अनुपात पर ट्रेड हो रहा है जो चक्र में 22.32 के पी/ई अनुपात तक जानेवाले स्टॉक के लिए सस्ता ही माना जाएगा।

कंपनी की कुल इक्विटी 1268.48 करोड़ रुपए है। इसका 57.34 फीसदी हिस्सा भारत सरकार, 13.43 फीसदी एफआईआई और 25.19 फीसदी डीआईआई के पास है। बाकी 4.04 फीसदी ही आम निवेशकों के पास है। शेयरधारिता के इस पैटर्न से साफ है कि इसमें असली खेल एफआईआई व डीआईआई के बीच चलता होगा। इस खेल का आनंद लेते हुए कंपनी के 96.82 फीसदी छोटे निवेशकों (1,93,097 में से 1,86,962) को हर साल नीचे से ऊपर के चक्र में 20-25 फीसदी कमाई करते रहना चाहिए।

2 Comments

  1. लांग टर्म की सही परिभाषा मिली और गेल में कमाने के अवसर ज्यादा हैं।

  2. गेल में कमाने के अवसर ज्यादा हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.