यूरिया व डीएपी, दोनों का उत्पादन लक्ष्य से कम

सितम्‍बर 2011 में यूरिया का उत्‍पादन लक्ष्‍य से 62,000 टन कम रहा है। लक्ष्‍य 18.28 लाख टन का था, जबकि उत्‍पादन लगभग 17.66 लाख टन का हुआ। इसी प्रकार डीएपी (डाई अमोनियम फॉस्फेट) का उत्‍पादन भी 97,000 टन कम रहा है। लक्ष्‍य 4.22 लाख टन का था, जबकि उत्‍पादन 3.25 लाख टन का ही हुआ है।

रसायन व उर्वरक मंत्रालय की तरफ से बुधवार को जारी आंकड़ों के अनुसार, सितम्‍बर माह में विभिन्‍न राज्‍यों को लगभग 25.17 लाख टन (स्‍वदेशी व आयाति‍त) यूरिया भेजा गया। इस महीने यूरिया की उपलब्‍धता लगभग 28 लाख टन रही और सभी राज्‍यों में इसकी उपलब्‍धता संतोषजनक रही। इसके अलावा 30 सितंबर 2011 तक यूरिया की बिक्री लगभग 139.21 लाख टन हुई, जो पिछले साल की इसी अवधि की बिक्री 126.02 लाख टन से 10.47 फीसदी अधिक है।

नियंत्रण-मुक्त उर्वरकों के मामले में डीएपी और एमओपी (म्यूरेट ऑफ फॉस्फेट) की सितम्‍बर महीने में उपलब्‍धता क्रमशः 11.32 लाख टन और 64,000 टन रही, जो राज्‍यों की मांग को पूरा करने के लिए पर्याप्त थी।

सितम्‍बर महीने में 8.33 लाख टन यूरिया का आयात किया गया, जिसमें 1.12 लाख टन यूरिया ओमान से और 7.21 लाख टन अन्‍य देशों से आयात किया गया। इसके अलावा 8.64 लाख टन डीएपी, 3.91 लाख टन एनपीके और 3.16 लाख टन एमओपी का भी आयात किया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.