2014 के पहले दिन से आखिर से एक दिन पहले तक सेंसेक्स 28.86% और निफ्टी 30.89% बढ़ा है। निवेशक इस बढ़त से कमाते हैं। वहीं इसी दौरान सेंसेक्स के उतार-चढ़ाव का अंतर 44.38% और निफ्टी के उतार-चढ़ाव का अंतर 45.39% रहा है। ट्रेडर इस अंतर से कमाते हैं। इस तरह गुजरा साल निवेशकों व ट्रेडरों दोनों के लिए ही अच्छा रहा। लेकिन उन्हीं के लिए जिन्होंने धैर्य, रिस्क और बुद्धि का इस्तेमाल लिया। अब बुध की बुद्धि…औरऔर भी

जो सभी कर रहे हैं, उसे करना समझदार ट्रेडर का काम नहीं हो सकता। पहली बात, इस धंधे में झुनझुनवाला या कोई भी बड़ा संस्थागत निवेशक, कभी वो नहीं बताता जो वाकई करता है। दूसरी बात, ट्रेडर अगर वही करने लगा जो दूसरे कर रहे हैं तो कमाएगा किनकी बदौलत! दरअसल, ट्रेडर की मानसिक बुनावट ऐसी होनी चाहिए जो उसे वैसा करने को निर्देशित करे जैसा दूसरे नहीं कर रहे। अब कोशिश मंगलवार का बाज़ार पकड़ने की…औरऔर भी

दस-बारह साल पहले तक इंट्रा-डे ट्रेडरों का मंत्र था कि किसी भी शेयर को बिड प्राइस (जिस पर कोई खरीदना चाहता है) पर खरीदो और आस्क प्राइस (जिस पर कोई बेचना चाहता हो) पर बेच दो। अमूमन आस्क प्राइस बिड प्राइस से ज्यादा होता है तो ट्रेडर इस अंतर से कमा लेते थे। लेकिन जब से अल्गोरिदम आधारित हाई-फ्रीक्वेंसी ट्रेड होने लगे तो रिटेल ट्रेडर पिटने लगा और स्विंग ट्रेड उसका सहारा बना। अब सोमवार का व्योम…औरऔर भी

शेयर बाज़ार में आपको वही धन लगाना चाहिए जिसकी ज़रूरत आपको अगले 5-10 साल तक नहीं पड़ने जा रही। यह वो धन होना चाहिए जो आप अपने बाल-बच्चों के लिए छोड़ कर जाना चाहते हैं। अगर आप हर दिन भाव देखने और यह पता लगाने के लिए बेचैन रहते हैं कि आपका पोर्टफोलियो कितना बढ़ा तो आपको शेयर बाज़ार से दूर ही रहना चाहिए। शेयरों में निवेश नियमित कमाई का विकल्प नहीं है। अब आज का तथास्तु…औरऔर भी

एक कोशिका के अमीबा से लाखों करोड़ कोशिकाओं वाले इंसान तक। जीवन व उससे जुड़ी चीज़ें ऐसे ही जटिल से जटिलतर होती जाती हैं। अमूमन लोग ट्रेडिंग में इंट्रा-डे, स्विंग, मोमेंटम या पोजिशनल ट्रेड तक जानते हैं। हालांकि, इधर लोग डेरिवेटिव ट्रेड भी आजमाने लगे हैं। लेकिन क्या आपको पता है कि कुछ ट्रेडर निफ्टी के स्पॉट और फ्यूचर्स भाव के अंतर पर ही खेलते हैं। इन्हें प्रोग्राम ट्रेडर कहते हैं। अब पकड़ते हैं शुक्रवार का ट्रेड…औरऔर भी