इसमें शायद ही कोई दो राय होगी कि विदेश संस्थागत निवेशक (एफआईआई) हमारे शेयर बाजार के प्रमुख खिलाड़ी बन चुके हैं। इतने बड़े कि बाजार उनके पीछे चलता है। एफआईआई अपना निवेश बहुत सोच-समझ कर गहन रिसर्च के बाद करते हैं। ऐसे में यह जानना बहुत महत्वपूर्ण होता है कि वे किन शेयरों में अपना निवेश बढ़ा रहे हैं क्योंकि इन ‘महाजनों’ के पथ पर चलकर आम निवेशक भी उनकी विशेषज्ञता का फायदा उठा सकते हैं। हमारीऔरऔर भी

जीईआई इंडस्ट्रियल सिस्टम्स भोपाल की कंपनी है और औद्योगिक मशीनरी बनाती है जिसमें खास हैं मशीनों को ठंडा रखने के उपकरण। वह दुनिया में एयर कूलिंग सिस्टम बनानेवाली तीसरी बड़ी कंपनी है। बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) के बी ग्रुप में उसके शेयर आते हैं। उसकी चुकता पूंजी 16.62 करोड़ रुपए है तो जाहिर है वह स्मॉल कैप कंपनी की श्रेणी में आएगी। कंपनी ने कल ही अपने शानदार नतीजे घोषित किए हैं। मार्च 2010 में खत्म चौथीऔरऔर भी

एलनेट टेक्नोलॉजीज बीएसई और एनएसई दोनों में लिस्टेड है। यह आईटी सॉफ्टवेयर उद्योग की कंपनी है। बाजार की अंदरूनी खबर रखनेवालों का कहना है कि यह शेयर अब नई रेंज में पहुचनेवाला है। मंगलवार को 10 रुपए अंकित मूल्य का यह शेयर बीएसई में 61.80 रुपए और एनएसई में 61.50 रुपए पर बंद हुआ है। एनएसई में पिछले 52 हफ्ते में इसका उच्चतम भाव 76.50 रुपए और न्यूनतम भाव 47 रुपए रहा है। एनएसई में मंगलवार कोऔरऔर भी

एचबी एस्टेट डेवलपर्स हरियाणा की कंपनी है। नाम के अनुरूप इसका धंधा है। सोमवार को इसके शेयर बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज में न बढ़े, न घटे। 73.30 रुपए तक उठने के बाद आखिर में शुक्रवार के बंद भाव 68.80 रुपए पर ही आकर टिक गए। बाजार में जरबदस्त चर्चा है कि एक जानामाना बड़ा ब्रोकरेज हाउस इसे खरीदने में लगा हुआ है। दूसरे, कुछ ट्रेडर्स ने इसमें शॉर्ट सेलिंग कर रखी है। कल यानी मंगलवार को वे इसेऔरऔर भी

आईपीएल में फ्रेंचाइची के मालिकाने के स्वरूप पर उठे विवाद के बीच जो चंद कंपनियां एकदम पाक-साफ निकली हैं, उनमें से एक है चेन्नई सुपरकिंग्स की मालिक इंडिया सीमेंट्स। बॉलीवुड के किसी भी सितारे की चमक के बिना चेन्नई सुपर किंग्स ने आईपीएल-3 में अपनी विजय की पताका लहरा दी है। मुंबई इंडियंस पर इन शानदार जीत का असर बहुत संभव है कि आज इंडिया सीमेंट के शेयरों पर भी नजर आए। शुक्रवार को बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंजऔरऔर भी

लालच बहुत लगता है कि जब किसी कंपनी का 10 रुपए का शेयर 8.60 रुपए में मिल रहा हो और यह उसका 52 हफ्ते का न्यूनतम स्तर भी हो। दिल्ली के नारायणा इंडस्ट्रियल एरिया फेज-1 की कंपनी ब्रशमैन (इंडिया) लिमिटेड यही लालच फेंक रही है। यह कंपनी किसी की भी नजर में चढ़ सकती है क्योंकि वह देश में पेंट ब्रश बनानेवाली प्रमुख कंपनी है। अपनी श्रेणी में देश की इकलौती लिस्टेड कंपनी है। उसके पास 2200औरऔर भी

जिस कंपनी की प्रति शेयर कमाई (ईपीएस) 62.66 रुपए हो, उसके शेयर का मूल्य कितना होना चाहिए? माना जाता है कि शेयर का बाजार मूल्य ईपीएस का दस गुना हो, यानी पी/ई अनुपात 10 तक हो तो वह बेहद वाजिब और निवेश के लिए सुरक्षित शेयर है। इस हिसाब से शेयर होना चाहिए 620 रुपए के आसपास। ऊपर से कंपनी की पूंजी में सरकार का 37.84 फीसदी हिस्सा हो तो वहां निवेश को लेकर और निश्चिंत हुआऔरऔर भी

विजया बैंक पिछले चार सालों से लगातार लाभांश देता रहा है। इस बार भी उसकी बोर्ड मीटिंग 30 अप्रैल को है जिसमें वित्त वर्ष 2009-10 के नतीजों के साथ ही लाभांश देने पर विचार किया जाएगा। मंगलवार को उसका शेयर बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) में 2.58 फीसदी बढ़कर 49.70 रुपए और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) में 2.79 फीसदी बढ़कर 49.75 रुपए पर बंद हुआ है। यह शेयर बीएसई-200 सूचकांक का हिस्सा है। इसलिए इस पर कोई सर्किटऔरऔर भी

स्टील स्ट्रिप्स इंफ्रास्ट्रक्चर्स पर आज सुबह-सुबह ऊपरी सर्किट ब्रेकर लग गया। कल बीएसई में यह शेयर बंद हुआ था 16.53 रुपए पर। आज जैसे ही बढ़कर 17.35 रुपए पर पहुंचा तो चूंकि यह बढ़त 4.96 फीसदी है, इसलिए फौरन 5 फीसदी का सर्किट ब्रेकर लग गया। इसमें करीब 3000 शेयरों के सौदे हुए। यह कोई करोड़ों-अरबों कमानेवाली कंपनी नहीं है। न ही इसने हाल-फिलहाल कोई करिश्मा दिखाया है। फिर भी इसके शेयरों में यह आग क्यों? असलऔरऔर भी

यूं तो कल का अनुमान लगाना बहुत मुश्किल है। लेकिन अगर सारे कारक आपकी नजर में हैं और उनके बीच के समीकरण की समझ आपको है तो आप बाजार की अगली दिशा का सटीक अनुमान लगा सकते हैं। ज्योतिष और बाजार में यही फर्क है। लेकिन कुछ कारक भी नजर से ओझल रह गए तो अनुमान का गलत होना तय है। इस लिहाज से गोल्डमैन सैक्स की घटना के असर का जो भी आकलन हमने किया था,औरऔर भी