दो में आया बोनस, तीसरा लाइन में

कल गुरुवार को हमारी शॉपिंग लिस्ट में शामिल दो कंपनियों ने बोनस देने की घोषणा कर दी। सेरा सैनिटरीवेयर ने घोषित किया कि कंपनी का निदेशक बोर्ड 16 जुलाई को अपनी बैठक करेगा, जिसमें एक एजेंडा शेयरधारकों को बोनस शेयर देने का भी है। इसी तरह गिलैंडर्स आर्बुथनॉट ने एलान किया है कि उसका निदेशक बोर्ड 15 जुलाई की बैठक में शेयरधारकों को बोनस देने पर विचार करेगा। दोनों में किसी ने यह नहीं बताया कि वे शेयरधारकों को किस अनुपात में बोनस शेयर देंगे। सेरा का तो पता नहीं, लेकिन गिलैंडर्स के बारे में आकलन है कि वह एक पर एक बोनस शेयर दे सकती है।

सेरा सैनिटरीवेयर का शेयर कल 287 रुपए की नई ऊंचाई पर पहुंच गया। हालांकि वह बंद हुआ 269.35 रुपए जो एक दिन पहले के बंद भाव से 9.23 फीसदी अधिक है। हमने इस शेयर को खरीदने की सिफारिश 19 अप्रैल को तब की थी, जब इसका भाव 249.95 रुपए था। ढाई महीने में 12-14 फीसदी का रिटर्न कम नहीं होता। लेकिन अगर आपने यह खरीद रखा है तो आपको बोनस लेने के कुछ महीने बाद ही इसे बेचना चाहिए।

इसी तरह गिलैंडर्स का शेयर कल ऊपर में 181 रुपए तक जाने के बाद 13.20 फीसदी की बढ़त के साथ 174.90 रुपए पर बंद हुआ। इस दौरान कंपनी प्रति शेयर 5 रुपए का लाभांश भी दे चुकी है। हमने 12 मई को जब इसे खरीदने की सलाह दी थी तब इसका भाव 172.60 रुपए था। उसके 15-20 दिन के भीतर ही यह गिरकर 130 रुपए तक चला गया था। तब कुछ लोग परेशान हो गए थे कि अब क्या करें? इसे रखें या बेचकर निकल जाएं। हमने तब भी कहा था कि हम कभी छोटी अवधि की सलाह नहीं देते। अगर शेयर गिर गया है तो आप और ज्यादा खरीदकर अपना औसत भाव कम कर लीजिए। जिसने भी ऐसा किया होगा, उसका रिटर्न यकीकन ज्यादा होगा। और, बोनस का बोनस ऊपर से।

एक और कंपनी के बारे में हम करीब तीन महीने से चर्चा किए जा रहे हैं। वो है विम प्लास्ट। हमने जब इसकी चर्चा की थी, तब बीएसई में इसका भाव 170 रुपए के आसपास था। अभी यह 198.70 रुपए पर है, जबकि चार दिन पहले 28 जून को यह 215 रुपए का शिखर चूम चुका है। अगर आप छोटी अवधि के निवेशक हैं तो बेचकर मुनाफावसूली कर लें। लेकिन लंबी सोच रखते हैं तो इसमें बने रहें क्योंकि सूत्रों के मुताबिक यह कंपनी भी अगले तीन महीनों में बोनस शेयर देने की घोषणा कर सकती है।

बाकी चर्चा यह है कि एक शेयर है ब्रशमैन। 23 अप्रैल को जब हमने इस पर नजर रखने की सलाह थी, यह कहते हुए इसमें जोखिम काफी ज्यादा है, तब इसका एक दिन पहले का बंद भाव 8.60 रुपए था। कल यह बीएसई में बंद हुआ है 13.33 फीसदी बढ़कर 9.44 रुपए पर। बताते हैं कि दो बड़े खिलाड़ियों – एमएम और एसडी का इस शेयर पर नियंत्रण है। उन्होंने यह शेयर काफी पहले 70 रुपए के ऊपर खरीदा था। उन्होंने इसमें फिर खेल शुरू कर दिया है और दो-तीन महीने में इसे खींचकर 16 रुपए पर ले जाने की जुगत में हैं। यहां फिर बता दें कि इस शेयर में जोखिम कम नहीं, काफी ज्यादा है।

एक और कंपनी है जीएचसीएल, जिसका ईपीएस है 14.02 रुपए, लेकिन उसका 10 रुपए अंकित मूल्य का शेयर कल 1.23 फीसदी की गिरावट के साथ 48.25 रुपए पर बंद हुआ है। आखिर में फिर आपको आगाह कर दें कि हमारा काम है अच्छे शेयर ढूंढकर निकालकर लाना। लेकिन निवेश का फैसला आपको अपने विवेक और जोखिम उठाने की क्षमता को तौल कर लेना है। इक्विटी बाजार जोखिम का धंधा है। यहां कमाई भी होती है तो डूबने का खतरा भी कभी भी कहीं से टपक सकता है।

1 Comment

  1. Dear Sir
    kya aap bata sakte hain gillenders ki 5 rs dividend dene ki news kanha par hai?actually mujhe news kanhi mili nahi as i hv kept it from 12 may.

Leave a Reply

Your email address will not be published.