रिश्ते काम के

नितांत आत्मीय रिश्ते ही भावना-प्रधान होते हैं। बाकी सभी मित्र और नाते-रिश्तेदार काम खत्म, पैसा हज़म का नाता रखते हैं। उनसे इससे ज्यादा अपेक्षा भी नहीं करनी चाहिए क्योंकि हम भी तो यही करते हैं।

1 Comment

  1. लेकिन मैं यह नहीं करता हूं। मैं औरों से अलग हूं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.