मारुति यूनियन में 11 सालों से चुनाव नहीं

मारुति सुजुकी में जून से लेकर अब तक करीब 60 दिन तक चली हड़ताल से हरियाणा सरकार को 350 करोड़ रुपए की एक्साइज ड्यूटी और 35 करोड़ के सेल्स टैक्स का नुकसान हो चुका है। खुद मारुति को करीब 1540 करोड़ रुपए की चपत लगी है। लेकिन कम ही लोग जानते हैं कि मारुति प्रबंधन कमर्चारियों की जिस यूनियन को मान्यता देता है, उसमें पिछले 11 सालों से गुप्त मतदान के जरिए कोई चुनाव नहीं हुए हैं। इसीलिए सोनू गुज्जर की अगुआई में कर्मचारी कंपनी में अपनी सच्ची यूनियन बनाना चाहते हैं।

1 Comment

  1. Sir Please Commodity (Gold or silver) par bhi kuch btaya kijiye.. please sir 🙂

Leave a Reply

Your email address will not be published.