नई पारी को तैयार एस्सार की इंडिया सिक्यूरिटीज

एस्सार समूह की फाइनेंस कंपनी इंडिया सिक्यूरिटीज में उसकी पूर्ण स्वामित्व वाली सब्सिडियरी ईटीएचएल कम्युनिकेशंस होल्डिंग्स के विलय को शेयरधारकों की मंजूरी मिल गई है। मद्रास हाईकोर्ट के आदेश पर कल, 26 चेन्नई में कंपनी के शेयरधारकों की बैठक हुई जिसमें विलय के प्रस्ताव को मंजूर कर लिया गया।

इसका सीधा-सीधा लाभ यह होगा कि ईटीएचएल कम्युनिकेशंस होल्डिंग्स के 5042.75 करोड़ रुपए के रिजर्व सीधे इंडिया सिक्यूरिटीज के खाते में आ जाएंगे। दूसरे, एस्सार समूह ने ईटीएचएल कम्युनिकेशंस होल्डिंग्स के जरिए वोडाफोन में जो 10.97 इक्विटी लगा रखी है, उसे वापस वोडाफोन को बेचने से मिलनेवाली रकम भी इंडिया सिक्यूरिटीज के खाते में आएगी। बता दें कि एस्सार समूह यह हिस्सेदारी वोडाफोन को 126 करोड़ डॉलर (5580 करोड़ रुपए) में बेचने का करार कर चुका है, जिसे 15 फरवरी 2012 तक पूरा कर लिया जाएगा।

असल में मद्रास हाईकोर्ट ने 21 जून 2011 को इंडिया सिक्यूरिटीज को आदेश दिया था कि वह ईटीएचएल कम्युनिकेशंस होल्डिंग्स को खुद में विलय कराने के लिए 26 जुलाई 2011 को शेयरधारकों की बैठक बुलाए। दोनों संबंधित कंपनियों के शेयरधारकों की मंजूरी के बाद ही विलय को स्वीकार किया जाएगा। अब यह औपचारिकता पूरी हो गई है तो इंडिया सिक्यूरिटीज नई पारी के लिए तैयार हो गई है। हालांकि अभी तक उसका धंधा मंदा ही पड़ा रहा है। लेकिन 10,000 करोड़ रुपए से ज्यादा रकम अपने खाते में आ जाने से वह जरूर कुछ न कुछ खेल कर सकती है।

आज, बुधवार को सुबह-सुबह उसका शेयर 5.38 फीसदी बढ़कर 49.95 रुपए पर पहुंच गया। हालांकि बाद में यह थोड़ा नीचे आ गया। इधर कंपनी में एफआईआई ने अपना निवेश बढ़ा दिया है। मार्च 2011 तक कंपनी की इक्विटी में एफआईआई का हिस्सा 7.46 फीसदी था, जबकि जून 2011 तक यह 21.11 फीसदी हो गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.