शायद आपको नहीं पता होगा कि संस्थाओं को भारत में इंट्रा-डे ट्रेडिंग करने की इजाज़त नहीं है। इसमें केवल व्यक्तिगत निवेशक ही भाग ले सकते हैं। यह कमाल की बात है क्योंकि शेयर बाज़ार की ट्रेडिंग में सबसे ज्यादा रिस्क है। व्यक्तिगत निवेशक सबसे ज्यादा भोले व अनजान होते हैं। फिर भी हमारी सरकार की तरफ से पूंजी बाज़ार के नियमन के लिए बनाई गई संस्था, सेबी ने केवल और केवल उन्हें ही शेयर बाज़ार के सबसेऔरऔर भी

शेयर बाज़ार की इंट्रा-डे ट्रेडिंग में कूदनवाले पांच तरह के लोग होते हैं। एक जो बहुत सोच-समझकर इसे अपना पेशा बनाते हैं। टेक्निकल से लेकर फंडामेंटल एनालिसिस तक सीखते हैं। ऐसे प्रोफेशनल ट्रेडर अपने स्वभाव व तासीर के माफिक सिस्टम विकसित करते हैं और बराबर अपनी पूंजी बचाते हुए उसे बढ़ाते रहते हैं। दूसरे हैं एचएनआई या हाई नेटवर्थ इंडीविजुअल। ये भी हमेशा अपनी पूंजी बचाकर चलते हैं। तीसरे जो फटाफट नोट बनाने के चक्कर में बाज़ारऔरऔर भी

इंट्रा-डे ट्रेडर पहले भी शेयर बाज़ार में भरे पड़े थे। आज भी उनकी भरमार है। पिछले एक साल में जो डेढ़ करोड़ नए निवेशक/ट्रेडर अपने यहां बाज़ार से जुड़े हैं, उनमें से ज्यादातर इंट्रा-डे ट्रेडिंग या बहुत हुआ तो बीटीएसटी (आज खरीदो, कल बेचो) सौदे करते होंगे। लेकिन उनको होश नहीं कि हर टिक पर बढ़ते-गिरते भावों की भंवर में कूदकर मुनाफा कमाना कोई पार्ट-टाइम जॉब नहीं। ये दिन की पूरी ट्रेडिंग के दौरान बराबर अलर्ट रहनेऔरऔर भी

अमेरिका के मशहूर हेज फंड मैनेजर माइकेल बरी कहते हैं कि इस वक्त दुनिया के शेयर बाज़ारों से लेकर बिट कॉयन जैसी क्रिप्टो करेंसी तक में इतिहास का सबसे भयंकर बुलबुला बन गया है जो कभी भी फट सकता है और करोड़ों निवेशकों के खरबों-खरब डूब सकते हैं। न तो यह आशंका निराधार है और न ही भारत दुनिया से अगल-थलग कोई द्वीप है। ऐसे में अपनी गाढ़ी बचत शेयरों में लगानेवाले निवेशकों के लिए बेहतर यहीऔरऔर भी

उठती ज्वाला और गिरते चाकू को पकड़ने की कोशिश कभी ना करें। शेयर बाज़ार में ऐसा एडवेंचर दिखाना उसी तरह है कि आप शेर से लड़ जाएं और शेर आपको खा जाए। इसलिए ट्रेडिंग में हमेशा ‘2% और 6% के अकाट्य मंत्र’ का पालन करना ज़रूरी है। हर सौदे में पहले से स्टॉप-लॉस लगाकर चलें। एक सौदे में 2% से ज्यादा घाटा नहीं और महीने में कुल 6% का घाटा लग गया तो पूरे महीने ट्रेडिंग सेऔरऔर भी