भली हैं दुविधाएं

चलते-चलते राह में तिराहे-चौराहे आते हैं। सोचते-सोचते मन में दुविधाएं आती हैं। सुलझते-सुलझते नई समस्याएं आ जाती हैं। यही तो जीवन का आनंद है दोस्त। वरना, सब एकसार रहता तो बोर नहीं हो जाते।

2 Comments

  1. दुविधायें भली हैं, जीवन के श्रेष्ठतम अध्याय ढूढ़कर ले आती हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.