सीबीआई जांच हो बीआईएफआर की

बाजार एक बार फिर डेरिवेटिव सौदों में ली गई पोजिशंस के हिसाब से चला। निफ्टी 0.83 फीसदी गिरकर 5785.45 पर पहुंच गया। ऐसा इसलिए क्योंकि डेरिवेटिव सौदों के गढ़ नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) में अभी तक फिजिकल सेटलमेंट नहीं है। हमें बाजार की इस गति का पहले से अंदाजा था। इसीलिए हमने केवल बचाव वाली कॉल्स ही दी थी। फिर भी तेजी का रुझान कायम है। कल नए सेटलमेंट की शुरुआत के साथ नई पोजिशन ली जाएंगी। इसलिए बाजार 300 अंक तक बढ़ सकता है।

सदन पेट्रोकेमिकल्स इंडस्ट्रीज कॉरपोरेशन बहुत तेजी से बढ़कर कल और आज मिलाकर 22 से 30 रुपए पर पहुंच गया क्योंकि एक तो यूरिया के मूल्य बढ़ाने जाने की खबर है और दूसरे यह एक तरह के टर्न-एराउंड का मामला है। विंडसर मशींस के पुनर्गठन के लिए बीआईएफआर (बोर्ड फॉर इंडस्ट्रियल एंड फाइनेंशियल रीकंस्ट्रक्शन) की तरफ से मंजूर की गई स्कीम और कुछ नहीं, बल्कि छोटे व रिटेल निवेशकों के साथ किया जा रहा धोखा है। कंपनी द्वारा इक्विटी बढ़ाने को पूरी तरह जायज माना जा सकता था बशर्ते वो अगर वित्तीय संस्थानों को ऋण के एवज में दी जाती या प्रवर्तक समूह की कंपनी को ऋण घटाने के लिए दी जाती।

लेकिन यहां तो एक-एक लाख रुपए चुकता पूंजी की दो कंपनियां बनाई जा रही है। कंपनी का प्रस्ताव आप खुद देख-पढ़ सकते हैं। साथ ही 2 रुपए के 7.7 करोड़ अतिरिक्त शेयर जारी किए जा रहे हैं जो 325 करोड़ रुपए से कम के नहीं होंगे। उप-विभाजन के बाद मूल्य आधा हो जाएगा। ये दो कंपनियां बगैर किसी नेटवर्थ के बनाई जा रही हैं जो अपने आप में सब कुछ स्पष्ट कर देता है। इस नकारात्मक कदम के असर से आज विंडसर मशींस का शेयर 10.42 फीसदी गिर गया।

समस्या यह है कि भारत में अल्पमत शेयरधारकों को कभी न्याय नहीं मिलता। तय है कि विंडसर मशींस के खिलाफ भी सेबी या कोई अन्य एजेंसी कार्रवाई नहीं करने जा रही। पहले हम इसी तरह का मामला बीआईएफआर के तहत गई अन्य कंपनी इंडिया फॉयल्स में देख चुके हैं जब निवेशकों के शेयर का मूल्य 20 रुपए से घटकर मात्र 35 पैसे रह गया था। फिर भी कॉरपोरेट कार्य मंत्रालय या सेबी ने कुछ भी नहीं किया। हमें तो उस वक्त का इंतजार है जब खुद बीआईएफआर पर सीबीआई जांच का शिकंजा कसेगा और यह पता लगाने जाएगा कि वह अल्पमत शेयरधारकों के हितों पर आघात करनेवाली स्कीमें क्यों मंजूर कर रहा है।

इधर बाजार में चर्चा चल पड़ी है कि निफ्टी मई में 5300 तक चला जाएगा। इसलिए पंटर लोगों ने अपने शॉर्ट सौदों को जस का तस रखा है। वे हर गिरावट पर धुआंधार अंदाज में बेचे जा रहे हैं। लेकिन अपना झुकाव तो बढ़त या तेजी की तरफ है। इसलिए हमारा सुझाव है कि रक्षात्मक स्टॉक्स को होल्ड किए रहें। मेरा मानना है कि निफ्टी 6030 तक जाएगा और फिर 6170 पर। वहां पहुंचने पर ही हम अपनी धारणा पर फिर से सोचेंगे।

अगर आप सारी गलतियों के लिए अपने दरवाजे बंद कर देंगे तो सच अपना दरवाजा आपके लिए बंद कर देगा।

(चमत्कार चक्री एक अनाम शख्सियत है। वह बाजार की रग-रग से वाकिफ है। लेकिन फालतू के कानूनी लफड़ों में नहीं उलझना चाहता। सलाह देना उसका काम है। लेकिन निवेश का निर्णय पूरी तरह आपका होगा और चक्री या अर्थकाम किसी भी सूरत में इसके लिए जिम्मेदार नहीं होंगे। यह कॉलम मूलत: सीएनआई रिसर्च से लिया जा रहा है)

1 Comment

  1. Sir Ji,
    CNI ne 1,10,000 share bech diye aaj….main kya karun…???
    I guess i will get rid of my holding, first thing the morning.

    Regards,
    Shishir

Leave a Reply

Your email address will not be published.