हम बहुत सारी चीजों को देखते हुए भी देख नहीं पाते क्योंकि उन्हें हम सरसरी व सामान्य नज़र से देखते हैं। हमें उनकी विशिष्टता का बोध नहीं होता। उसी तरह जैसे सब कुछ समान होते हुए भी घोड़े, कुत्ते और चूहे को अलग-अलग दिखता है।और भीऔर भी

इंसान का स्वभाव और कुत्ते की दुम एक बार आकार ले ले तो फिर उसे बदलना लगभग नामुमकिन होता है। इसलिए बालपन में ही अच्छे संस्कारों की नींव डालना जरूरी है। बाद में कुछ नहीं हो पाता।और भीऔर भी

यह महाभारत की एक कथा है जो शरशय्या पर पड़े भीष्म युधिष्ठिर को सुना रहे हैं,  यह सुझाते हुए कि राजकाज में किसी व्यक्ति के स्वभाव को पहचान कर ही उसके अधिकारों में वृद्धि करनी चाहिए। आज राजकाज तो रहा नहीं, लेकिन अपने व्यवसाय से लेकर नौकरी तक में हमें एक तरह का राजकाज ही चलाना होता है। योगेंद्र जोशी जी ने यह कथा अपने ब्लॉग – जिंदगी बस यही है, पर बड़े मनोयोग से लगाई है।औरऔर भी