दिवाली आई, पर दलिद्दर भागा नहीं

दिवाली की शुरुआत धनतेरस के पावन दिन से हो जाती है और वो दिन आज है। इस पवित्र दिन पर मैं आप सभी को बहुत-बहुत शुभकामनाएं देता हूं। मैं जानता हूं कि यह कॉलम आप लोग नियमित रूप से और बेहद संजीदगी से पढ़ते हैं। अपने प्रति इतना भरोसा दिखाने के लिए मैं आप सभी का शुक्रगुजार हूं।

शेयर बाजार से बुरे दौर का दलिद्दर अभी तक पूरी तरह भागा नहीं है। पर, निश्चित रूप से इसका अंत बेहद करीब है। लेकिन अर्थव्यवस्था के साथ-साथ बाजार के भी तमाम नकारात्मक तत्वों के बावजूद मैं इस दिवाली को लेकर तेजी की धारणा रखता हूं। मैं दावे के साथ कहता हूं कि अगर आप इस समय निवेश करते हैं, लॉन्ग रहते हैं तो इस दिवाली से अगली दिवाली तक जरूर लक्ष्मी आप पर धन की बरसात करेंगी।

आज निफ्टी 5145.65 तक ऊपर जाने के बाद नीचे उतरा है और कुल मिलाकर 0.98 फीसदी की बढ़त के साथ 5098.35 पर बंद हुआ है। परसों यानी दिवाली के दिन निफ्टी 5350 तक पहुंच सकता है। उसके बाद क्या होगा? रस्साकसी जारी है। वैसे, जहां तक मंदड़ियों का ताल्लुक है तो उनके लिए सितंबर सबसे बुरा महीना रहा है क्योंकि वे 4300 के लक्ष्य का इंतजार ही करते रहे, लेकिन बाजार ने उन्हें उपकृत नहीं किया।

अक्टूबर को वैश्विक स्तर पर अपशगुनी व अशुभ महीना करार दिया गया। कहां गया कि निफ्टी 3700 तक चला जाएगा। लेकिन महीना खत्म होने को है और अभी तक तो ऐसा नहीं हुआ है। अब वे कह रहे हैं कि नवंबर में उनकी तरफ से आखिरी चोट होनी है और वे निफ्टी को फिर से 4200 तक ले जाएंगे। लेकिन मुझे नहीं लगता कि ऐसा होने की कोई गुंजाइश अब बाकी बची है।

जो हो सकता है, वो केवल यह कि बाजार थोड़ा सधकर 4900 तक गिर जाए, जिसके लिए हमें तैयार रहना चाहिए। हम अभी तक हर गिरावट पर खरीदने की अपनी ट्रेडिंग रणनीति में सफल रहे हैं। एकदम निडर होकर निवेश करें। हमारी सलाह के मुताबिक हर गिरावट पर खरीदें और देखिए कि देवी लक्ष्मी कैसे आप पर कृपालु होती हैं। यह आप सभी के साथ हमारा वादा है। मैं अपनी तरफ से अगली दिवाली तक के लिए आपके सामने दो स्टॉक्स पेश करता हूं – एस्कॉर्ट्स लिमिटेड और पिपावाव डिफेंस एंड ऑफशोर। एस्कॉर्ट्स आज 2.46 फीसदी और पिपावाव 0.70 फीसदी बढ़ा है।

एक बार फिर आप सभी को धनतेरस की बहुत-बहुत शुभकामनाएं।

निराशा को भेदने के लिए आशा की एक किरण ही काफी है, उसी तरह जैसे घटाटोप अंधेरे को चीरने के लिए एक दीया ही पर्याप्त होता है।

 (चमत्कार चक्री एक अनाम शख्सियत है। वह बाजार की रग-रग से वाकिफ है। लेकिन फालतू के कानूनी लफड़ों में नहीं पड़ना चाहता। इसलिए अनाम है। वह अंदर की बातें आपके सामने रखता है। लेकिन उसमें बड़बोलापन हो सकता है। आपके निवेश फैसलों के लिए अर्थकाम किसी भी हाल में जिम्मेदार नहीं होगा। यह मूलत: सीएनआई रिसर्च का कॉलम है, जिसे हम यहां आपकी शिक्षा के लिए पेश कर रहे हैं)

Leave a Reply

Your email address will not be published.