अरबिंदो फार्मा में 40% रिटर्न का दम

अरबिंदो फार्मा (बीएसई – 524804, एनएसई – AUROPHARMA) ने इसी 11 फरवरी से अपने 5 रुपए अंकित मूल्य के शेयरों को पांच भाग में बांटकर 1 रुपए अंकित मूल्य का कर दिया है। 10 फरवरी को इसका शेयर बीएसई में 1142 रुपए पर बंद हुआ था। उसी दिन एचडीएफसी सिक्यूरिटीज ने कंपनी के तीसरी तिमाही के नतीजों का विश्लेषण करते हुए कहा था कि यह शेयर अगले बारह महीनों में 1647 रुपए तक जा सकता है। शेयर के पांच हिस्सों में बंट जाने के बाद हम कह सकते हैं कि 10 फरवरी को यह 228.40 रुपए था, जो बारह महीनों में 329.40 रुपए पर जा सकता है। कल 14 फरवरी को इसका बंद भाव 234.15 रुपए रहा है। इस तरह अगर हम एचडीएफसी सिक्यूरिटीज के आकलन को सही मानें तो यह शेयर साल भर में 40 फीसदी से ज्यादा का रिटर्न दे सकता है।

अरबिंदो फार्मा की आय दिसंबर 2010 की तिमाही में पिछले वित्त वर्ष की समान अवधि की आय 915 करोड़ रुपए से 30 फीसदी बढ़कर 1192 करोड़ रुपए हो गई है, जबकि शुद्ध लाभ 145 करोड़ रुपए से 33 फीसदी बढ़कर 192 करोड़ रुपए हो गया है। एचडीएफसी सिक्यूरिटीज का आकलन है कि चालू वित्त वर्ष में कंपनी की कुल आय 24 फीसदी और अगले वित्त वर्ष 2011-12 में 16 फीसदी बढ़ेगी, जबकि शुद्ध लाभ इस साल 13 फीसदी और अगले साल 30 फीसदी बढ़ेगा। इस दौरान उसका सकल लाभ मार्जिन 23.8 फीसदी से बढ़कर 25.6 फीसदी हो जाने की उम्मीद है।

यह विश्वस्तर पर एआरवी (एंटी रिट्रो-वाइरल) बिजनेस की बड़ी कंपनी है। उसके उत्पादों का रजिस्ट्रेशन दुनिया के 50 देशों में है। वह विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ), क्लिंटन फाउंडेशन और एड्स राहत से जुड़े तमाम संगठनों के एआरवी टेंडरों में भाग लेती है और कामयाब भी होती है। उसका एआरवी फॉर्मूलेशन बिजनेस दिसंबर 2010 की तिमाही में पिछले साल की इसी तिमाही की तुलना में 64 फीसदी बढ़कर 107 करोड़ रुपए से 175 करोड़ रुपए पर पहुंच गया है।

एचडीएफसी सिक्यूरिटीज ने तमाम गणनाओं के बाद निकाला है कि पूरे चालू वित्त वर्ष में अरबिंदों फार्मा का ईपीएस (प्रति शेयर शुद्ध लाभ) 19.46 रुपए रहेगा और अगले वित्त वर्ष 2011-12 में बढ़कर 25.34 रुपए पर पहुंच जाएगा। उसका कहना है कि अगर यह शेयर साल भर बाद 13 के पी/ई अनुपात पर ट्रेड होता है तो 25.34 को 13 से गुणा करने पर इसका भाव निकलता है 329.40 रुपए। सीधे-सीधे साल भर में 40 फीसदी से ज्यादा रिटर्न की गुंजाइश। कंपनी बराबर लाभांश भी देती रही है। पिछले दो सालों में दस रुपए अंकित मूल्य पर उसने 5 रुपए (50 फीसदी) का लाभांश दिया है।

वैसे, अभी की बात करें तो कंपनी का ठीक पिछले बारह महीनों का ईपीएस 20 रुपए है और उसका शेयर मात्र 11.71 के पी/ई अनुपात पर ट्रेड हो रहा है। शेयर की बुक वैल्यू 86.06 रुपए है। यानी इसका शेयर बुक वैल्यू से 2.72 गुना चल रहा है जिसे एक ठीकठीक आधार माना जाएगा। यह शेयर हो सकता है कि दो-चार दस दिन में गिरता रहे, लेकिन जिस किसी का लक्ष्य साल भर का है, उसकी पूंजी को कम से कम 25 से 40 फीसदी बढ़ा सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.