ये सृष्टि एक मिलीजुली कोशिश का नतीजा है। सूक्ष्म से सूक्ष्म कणों ने भी नियमबद्ध होकर बेहद तार्किक तरीके से इसको रचने में अपना भरपूर योगदान दिया है। ये दुनिया, ये ब्रह्माण्ड इसी कोशिश और कुछ प्राकृतिक नियमों का उद्घोष भर है।और भीऔर भी