दो साल आर्थिक सुधार रहेंगे सुस्त: कौशिक बसु

वित्त मंत्रालय के मुख्य आर्थिक सलाहकार कौशिक बसु का मानना कि देश में आर्थिक सुधारों की रफ्तार फिलहाल धीमी पड़ गई है और 2014 के आम चुनाव से पहले प्रमुख सुधारों को आगे बढ़ाना मुश्किल होगा। बसु इस समय वित्त मंत्री प्रणब मुखर्जी के साथ चार दिन की अमेरिका यात्रा पर गए हुए हैं। वित्त मंत्री 22 अप्रैल तक अमेरिका में रहेंगे, जहां उन्हें विश्व बैंक व आईएमएफ की सालाना बैठकों में भाग लेना है। साथ ही वे जी-20 देशों की बैठक में भी शिरकत करेंगे।

वित्त मंत्रालय के मुख्य आर्थिक सलाहकार कौशिक बसु ने वॉशिंगटन की एक संस्था ‘कार्नेगी एन्डावमेंट फॉर इंटरनेशनल पीस’ की एक बैठक में कहा कि 2014 के आम चुनावों के बाद सत्ता में आने वाली सरकार सुधारों को तेजी से आगे बढ़ाएगी और विभिन्न मोर्चों पर सुधार होंगे। उन्होंने दावा कि अगले आम चुनाव के बाद वर्ष 2015 से भारत विश्व की सबसे तेज रफ्तार से बढ़ने वाली अर्थव्यवस्थाओं में से एक होगा।

उन्होंने कहा कि यदि आम चुनाव के बाद पूर्ण बहुमत की सरकार सत्ता में आई तो सुधारों को तेजी से आगे बढ़ाएगी। बसु ने कहा कि फिलहाल कम महत्वपूर्ण विधेयक ही संसद में पेश हो सकते हैं, लेकिन प्रमुख आर्थिक सुधार से जुड़े विधेयकों के सामने अड़चनें आ सकती हैं। अगले संसदीय चुनाव से पहले इन्हें आगे नहीं बढ़ाया जा सकता।

उन्होंने कहा कि कुछ ऐसे सुधार हैं जिन्हें तेजी से आगे बढ़ाने की जरूरत है। रिटेल व्यापार एक ऐसा क्षेत्र है जो विदेशी निवेश (एफडीआई) की मंजूरी के लिए इंतजार कर रहा है। उन्होंने कहा कि भारत में सब्सिडी के दुरुपयोग और कमजोर इंफ्रास्ट्रक्चर के मामले पर ध्यान देने की जरूरत है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *