कटे सारे शॉर्ट सौदे, बाजार ओवरबॉट

मेरा यकीन अब हकीकत बन चुका है। कल ही मैंने कहा था कि निफ्टी जरूर से जरूर 5500 तक पहुंच जाएगा। और, आज ऐसा हो गया। निफ्टी ने तीन बजे के आसपास 5542.10 की ऊंचाई पकड़ ली और अंत में 2.14 फीसदी की भारी बढ़त के साथ 5531.95 पर बंद हुआ है। निफ्टी फ्यूचर्स तो 5564.45 पर जाने के बाद 5551.40 पर बंद हुआ है।

सारे शॉर्ट सौदे कट चुके हैं। बाजार ओवरबॉट अवस्था में पहुंच चुका है। निफ्टी ने 5500 से ऊपर पहुंच कर मंदड़ियों को सचमुच दौड़ा लिया है। अभी तक कोई रोलओवर नहीं हुआ है। इस सेटलमेंट के खत्म होने में बस पांच दिन और बचे हैं। मेरा मानना है कि अगर अभी रोल्स होना शुरू नहीं हुए तो बाजार सेटलमेंट के अंत तक और ऊपर जा सकता है।

खैर, मैं फिलहाल बड़ा खुश और शांत हूं। निफ्टी में 5526 का मेरा लक्ष्य हासिल हो चुका है। अब मैं अगले कुछ दिनों तक किनारा पकड़कर दूर से बाजार के दर्शन करता रहूंगा। सामान्य स्थितियों में निफ्टी में अब इससे ज्यादा बढ़त की गुंजाइश नहीं दिख रही है, जबकि तत्काल 4 फीसदी गिरने के आसार ज़रूर नजर आ रहे हैं। गिरावट की तरफ पहला पड़ाव 5387 और उसके बाद 5287 का है। यह चार्टों पर ट्रेड की दिशा को लांग से बदलकर शॉर्ट कर देगा। यह वो प्रेस्क्रिप्शन है, जिसका इंतज़ार बाज़ार के ‘डॉक्टरों’ को है ताकि वे 23 फरवरी को सेटलमेंट के अंतिम दिन ‘मरीजों’ से अच्छी वसूली कर सकें।

फ्यूचर्स एंड आप्शंस (एफ एंड ओ) में डिश टीवी के अलावा किसी और स्टॉक में लांग होने से बचें। डिश टीवी इसलिए क्योंकि उसमें क्वालिफाइड इंस्टीट्यूशनल प्लेलमेंट (क्यूआईपी) होने की खबर है। बाकी तो आप लोग मुझसे ज्यादा समझदार हैं और अपने फैसले खुद कर सकते हैं।

सेंचुरी टेक्सटाइल्स को डिलीवरी के लिए खरीदते जाएं क्योंकि अगले तीन महीने में यह 550 रुपए तक जा सकता है। इसके सीमेंट और रीयल्टी डिवीजन को अलग किया जाना है। डीमर्जर के बाद सीमेंट डिवीजन को आदित्य बिड़ला समूह की अल्ट्राटेक या बी के बिड़ला समूह की मंगलम सीमेंट के साथ मिला दिया जाएगा। इससे आया कैश फ्लो कंपनी को ऋण-मुक्त कर देगा। रीयल्टी कारोबार तब सेंचुरी टेक्सटाइल्स को 1400 रुपए प्रति शेयर का मूल्य देगा, जो इस स्टॉक में अगले दो साल के लिए मेरा लक्ष्य है। आज सेंचुरी टेक्सटाइल्स बीएसई में 5.93 फीसदी बढ़कर 329.60 रुपए पर बंद हुआ है।

अब तक आपने जो भी मुनाफा कमाया है, उसका थोड़ा अंश कैम्फर एंड एलायड प्रोडक्ट्स में लगा दें। यह बालासोर जैसा ब्रेकआउट देगा जो 5 दिनों में ही 13 से उछलकर 21 रुपए पर पहुंच चुका है। कैम्फर जल्दी ही ट्रेड टू ट्रेड श्रेणी से बाहर निकल रहा है। इससे इसमें वोल्यूम बढ़ जाएगा और एकतरफा बढ़त होगी। तब तक मौज करें…

एक पहाड़ी चढ़ने के बाद ही पता चलता कि अरे! अभी तो और भी बहुत सारी पहाड़ियां चढ़नी बाकी हैं।

(चमत्कार चक्री एक अनाम शख्सियत है। वह बाजार की रग-रग से वाकिफ है। लेकिन फालतू के कानूनी लफड़ों में नहीं पड़ना चाहता। इसलिए अनाम है। वह अंदर की बातें आपके सामने रखता है। लेकिन उसमें बड़बोलापन हो सकता है। आपके निवेश फैसलों के लिए अर्थकाम किसी भी हाल में जिम्मेदार नहीं होगा। यह मूलत: सीएनआई रिसर्च का कॉलम है, जिसे हम यहां आपकी शिक्षा के लिए पेश कर रहे हैं)

Leave a Reply

Your email address will not be published.