लगातार गिरता रुपया, कच्चे तेल व पेट्रोलियम पदार्थों के बढ़ते दाम, विदेशी निवेशकों का निकलते जाना। इन प्रतिकूल स्थितियों से घबराया शेयर बाज़ार क्या जल्दी संभल पाएगा? सरकारी इंफ्रास्ट्रक्चर परियोजनाओं को ऋण देनेवाली आईएल एंड एफएस जैसी बड़ी कंपनी का संकट क्या गुल खिला सकता है? स्मॉंल और मिडकैप कंपनियों के शेयरों का गिरना कब रुकेगा? इस धुंध भरे महौल में अच्छी कंपनियां भी पीटी जा रही है। तथास्तु में आज इन्हीं में से एक दमदार कंपनी…औरऔर भी

ज्ञान को सफलता तक कौशल पहुंचाता है और कौशल के लिए अभ्यास ज़रूरी है। अभ्यास भी जहां-तहां हाथ मारने का नहीं, बल्कि अनुशासन व नियम में बंधकर चलने का। जिस तरह जीवन सांसों की डोर से बंधा है, उसी तरह वित्तीय बाज़ार की ट्रेडिंग भावों की लय-ताल से बंधी है। भावों की यह डोर पकड़कर हम अभ्यास करते हैं। धीरे-धीरे भावों का पैटर्न और रुख बदलने का ढर्रा समझ में आने लगता है। अब शुक्रवार का अभ्यास…औरऔर भी

लंबे निवेश के लिए फंडामेंटल एनालिसिस का सहारा लेना चाहिए, टिप्स का कभी नहीं। ट्रेडिंग के लिए टेक्निकल एनालिसिस की मूल बातों को जान लेना चाहिए। लेकिन बाज़ार में देशी व विदेशी संस्थाओं और नवसिखिया रिटेल ट्रेडरों का संतुलन समझना ज़रूरी है ताकि हम पतंगों की तरह दीए की लौ पर जल जाने के अंजाम से बच सकें। संस्थाओं की राह ही सही राह है। ट्रेडिंग में सफलता की बुनियादी समझ यही है। अब गुरु की दशा-दिशा…औरऔर भी

बाज़ार में खिलाड़ियों के खेल और संतुलन को जानने के साथ ही यह बात मन में कहीं गहरे बैठा लेना चाहिए कि  ट्रेडिंग और निवेश मूलतः प्रायिकता के खेल हैं। यहां कुछ भी पक्का नहीं। अनुमान व संभावना चलती है। आंख मूंद छलांग लगाने से सबसे अच्छा पाने की उम्मीद आत्मघाती है। शेयर बाज़ार में अच्छी तरह गिना व समझा गया रिस्क लिया जाता है, जिसमें रिटर्न की प्रायिकता कभी शत-प्रतिशत नहीं होती। अब बुधवार की बुद्धि…औरऔर भी

वित्तीय बाज़ार की ट्रेडिंग व निवेश से जुड़े ज्ञान को कई हिस्सों में बांटा जा सकता है। सबसे पहले तो यह जानना ज़रूरी होता है कि वित्तीय बाज़ार काम कैसे करता है। यहां कौन-कौन से मुख्य खिलाड़ी सक्रिय हैं और रिटेल ट्रेडरों व निवेशकों से लेकर म्यूचुअल फंड, बीमा कंपनियों, बैंकों, प्रोफेशनल ट्रेडरों, ब्रोकिंग हाउसों व विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों की क्या भूमिका व वजन होता है। उनके ऑर्डर फ्लो को समझना होता है। अब मंगलवार की दृष्टि…औरऔर भी