लोगबाग शेयर बाज़ार में इस तरह उमड़ पड़े हैं, जैसे बरसात में जलते बल्ब पर पतंगे टूट पड़ते हैं। वित्त वर्ष 2019-20 में डिमैट खातों की संख्या चार करोड़ हुआ करती थी। अब 13 करोड़ को पार कर गई है। हर महीने 20-30 लाख नए डिमैट खाते खुल रहे हैं। शेयर बाज़ार में पंजीकृत निवेशकों की संख्या 15 करोड़ से ज्यादा हो चुकी है। फिच जैसी रेटिंग एजेंसी कहने लगी है कि 2024 में मोदी की वापसीऔरऔर भी

शेयरों में निवेश कोई सीधी-साधी राह नहीं कि मुंह उठाकर चल पड़े। जिस भी कंपनी के शेयरों में निवेश कर रहे हैं, उसका बिजनेस ठोंक-बजाकर समझना होता है। अगर बिजनेस को नहीं समझा तो गलत दवा की तरह उसके बड़े खतरनाक साइड-इफेक्ट होते हैं। वैसे भी हमारा शेयर बाज़ार अब ग्लोबल हो चुका है। बहुत सारी बहुराष्ट्रीय कंपनियां यहां लिस्टेड हैं। इसलिए बाहर की ऊंच-नीच भी कंपनियों को प्रभावित करती है। बड़े नाम व स्थापित धंधे केऔरऔर भी

लॉटरी की तरह आईपीओ में भी किस्मत का खेल चलता है। जिन लोगों मे हाल ही में इरेडा के आईपीओ में आवेदन डाला होगा, वे इस बात की तस्दीक करेंगे। यह आईपीओ कुल 38.80 गुना और रिटेल यानी दो लाख रुपए तक निवेश करनेवालों की श्रेणी में 7.73 गुना सब्सक्राइब हुआ। ऐसे में करीब आठ में से एक निवेशक को ही शेयर आंवटित होने थे तो इसका फैसला लॉटरी से हुआ। जिनको शेयर मिले, उनका धन कुछऔरऔर भी

हम बड़े विचित्र दौर से गुजर रहे हैं। जो जितना ज्यादा झांसा देने में सफल है, वो उतना ही ज्यादा कमा रहा है। कंपनियां विज्ञापनों के जरिए झांसा देती हैं। सेलेब्रिटी कंपनियों के माल बेचकर या सरकारी योजनाओं के विज्ञापन से कमाते हैं। सोचिए कि एक समय अमिताभ बच्चन के सितारे गर्दिश में थे। लेकिन अब तो रिजर्व बैंक से लेकर तेल व भुजिया तक के विज्ञापन से ही वे करोड़ों कमा ले रहे हैं। सचिन सेऔरऔर भी

शेयर बाज़ार दिन, महीने, साल हमेशा लहरों में चलता है। बाज़ार में ऐसा दौर होता है जब बहुत सारे शेयर आकर्षक भावों पर मिल रहे होते हैं। वहीं, ऐसा भी दौर होता है जब बहुत सारे शेयर काफी महंगे भाव पर चल रहे होते हैं। जो निवेशक बाज़ार की लहर के निचले स्तर या शेयरों को आकर्षक भाव पर खरीदते हैं, वे अक्सर दो-तीन साल में अच्छा कमा लेते हैं। वहीं, जो निवेशक बाज़ार की लहर केऔरऔर भी

जलाओ दीये, पर रहे ध्यान इतना, अंधेरा धरा पर कहीं रह न जाए। सुख, समृद्धि व खुशहाली का त्योहार आप सभी को बहुत-बहुत मुबारक। दीपावली असत्य पर सत्य की जीत का त्योहार है। नई शुरुआत की बेला है। यह काहिली व दलिद्दर को मिटाने और कर्तव्य, करतब व कर्म की राह पर डट जाने के संकल्प का पर्व है। अपने हिस्से की मेहनत व उद्यमशीलता में कोई कोर-कसर नहीं छोड़नी चाहिए। लेकिन यह दौर साथ-साथ बढ़ने औरऔरऔर भी

शेयर बाज़ार का निवेश लम्बे समय की ट्रेडिंग है और ट्रेडिंग छोटे समय का निवेश। अनुभवी लोग बताते हैं कि शेयर बाज़ार से वही कमाता है जो बराबर मुनाफा निकालता रहता है। इस अनिश्चितता से भरी दुनिया में कुछ भी पक्का नहीं। फिर शेयर बाज़ार तो अनिश्चितता से ही खेलने का दूसरा नाम है। पहली बात, हमेशा लक्ष्य बनाकर ट्रेडिंग या निवेश करना चाहिए। दूसरी बात, लक्ष्य पूरा होते या स्टॉप लॉस ट्रिगर होते ही ज्यादा लालचऔरऔर भी

बनाता है कोई, कमाता है कोई। दुनिया की यह रीत बड़ी पुरानी है और एकदम नई भी। व्यापार अपने यहां आज भी कृषि के बाद रोजी-रोजगार का सबसे बड़ा साधन है। एक ही गली-मोहल्ले में किराना से लेकर सर्राफा तक की कई दुकानें मिल जाती हैं। सभी दुकानदार ठीकठाक कमा लेते हैं और घर के तमाम सदस्यों को काम-धंधा भी मिल जाता है। दुनिया में भी व्यापार बहुत बड़ा धंधा बना हुआ है। आज अमेजॉन दुनिया काऔरऔर भी

लालच का कोई तर्क नहीं होता। बस फायदा ही फायदा दिखता है। पांच रुपए का शेयर खरीद लिया और दो-चार साल में 50 रुपए हो गया तो दस गुना रिटर्न! दिक्कत यह है कि आज भी शेयर बाज़ार के ज्यादातर निवेशक इसी तरह के तर्कहीन लालच में अंधे होते हैं। हर किसी के पास रिटर्न की पूरी गणना व ख्बाव होता है। लेकिन रिस्क का कोई हिसाब-किताब नहीं होता। समझदारी दिखाई तो कंपनी का पिछला ट्रैक रिकॉर्डऔरऔर भी

एक तरफ देश के आमजन पर कर्ज और देनदारियों का बोझ बढ़ रहा है। दूसरी तरफ उनकी वित्तीय आस्तियां घटती जा रही हैं। नतीजा यह है कि बीते वित्त वर्ष 2022-23 में आमजन या हाउसहोल्ड की शुद्ध बचत 47 सालों के न्यूनतम स्तर जीडीपी के 5.1% पर आ गई। साल भर पहले 2021-22 में यह जीडीपी की 7.2% हुआ करती थी। यह सच रिजर्व बैंक ने सितंबर 2023 की मासिक बुलेटिन में उजागर किया है। लेकिन वित्तऔरऔर भी