पेश हैं ललित ठक्कर के तीन एंजेल

अलेम्बिक (बीएसई कोड – 506235), इलेक्ट्रोस्टील कास्टिंग्स (बीएसई कोड – 500128) और विविमेड लैब्स (बीएसई कोड – 532660)। ये तीन कंपनियां बीएसई के बी ग्रुप में शामिल हैं और एनएसई में भी लिस्टेड हैं। एंजेल ब्रोकिंग के डायरेक्टर-रिसर्च ललित ठक्कर का मानना है कि ये तीनों स्टॉक काफी संभावना रखते हैं। इनमें कोई न कोई ट्रिगर है और साल भर में ये 40 से 50 फीसदी का रिटर्न दे सकते हैं। यानी, आज आपने इनमें 1000 रुपए लगाए तो आपकी रकम साल भर में 1400 रुपए हो सकती है। ललित ठक्कर को बाजार के विश्लेषण के मामले में जीनियस माना जाता है। वे एंजेल ब्रोकिंग की स्थापना के समय से ही उसके साथ जुड़े रहे हैं। उन्हें टेक्निकल और फंडामेंटल रिसर्च, दोनों में महारत हासिल है।

उनकी ‘पारखी नज़र’ की परीक्षा तो साल भर बाद ही हो पाएगी। अभी देखते हैं कि इन तीनों कंपनियों की मोटामोटी हकीकत क्या है। अलेम्बिक के बोर्ड ने इसी 29 जून को अपने मूल फार्मा बिजनेस को अलग कंपनी अलेम्बिक फार्मा में डालने का फैसला किया है। लेकिन वडोदरा संयंत्र कंपनी अपने पास रखेगी, जहां पेनसिलीन-जी व कुछ अन्य दवाएं बनाई जाती हैं। वहां कंपनी का अपना छोटा बिजली संयंत्र है और जमीन भी अच्छी खासी है।

अलेम्बिक के शेयर का भाव अभी 58.45 रुपए चल रहा है, जबकि उसकी बुक वैल्यू 23.65 रुपए है। कंपनी ने 2009-10 में 1149 करोड़ रुपए की आय पर 39.54 करोड़ रुपए का शुद्ध लाभ कमाया है। इसमें से चौथी तिमाही में उसका शुद्ध लाभ महज 42 लाख रुपए रहा था, जबकि साल भर पहले की इसी अवधि में उसे 1.42 करोड़ का घाटा उठाना पड़ा था। असल में कंपनी का पेनसिलीन-जी का धंधा चीन से होनेवाली डंपिंग के चलते उसके लाभ पर गहरी चोट करता रहा है। डीमर्जर के बाद भी वह इसे अपने पास रखेगी। कंपनी के शेयरधारकों को हर शेयर पर डीमर्जर के बाद नई कंपनी का एक शेयर मिलेगा। अभी बोर्ड के फैसले को जरूरी मंजूरियां मिलनी बाकी हैं।

ललित ठक्कर की अगली दो पसंदीदा कंपनियों में से विविमेड लैब्स भी दवा व्यवसाय से ताल्लुक रखती है। उसके दस रुपए अंकित मूल्य शेयर का भाव इस समय बीएसई में 187.75 रुपए चल रहा, जबकि इसकी बुक वैल्यू 117.89 रुपए है। कंपनी ने वित्त वर्ष 2009-10 में 212.60 करोड़ रुपए की आय पर 16.54 करोड़ रुपए का शुद्ध लाभ कमाया है। 9.96 करोड़ रुपए की इक्विटी पर उसका ईपीएस (प्रति शेयर लाभ) 16.60 रुपए है और उसका शेयर 11.19 के पी/ई अनुपात पर ट्रेड हो रहा है, जबकि रैनबैक्सी का पी/ई अनुपात 8.37 चल रहा है।

ललित की तीसरी और आखिरी पसंद है इलेक्ट्रोस्टील कास्टिंग्स। इसका एक रुपए का शेयर बीएसई में अभी 48.40 रुपए चल रहा है और इसकी बुक वैल्यू भी लगभग इसके बराबर 48.47 रुपए। कंपनी ने वित्त वर्ष 2009-10 में 1528.89 करोड़ रुपए की आय पर 206.29 करोड़ रुपए का शुद्ध लाभ कमाया है और उसका ईपीएस 6.31 रुपए है। उसका शेयर इस समय 7.67 के पी/ई अनुपात पर ट्रेड हो रहा है। चर्चा है कि यह कंपनी अपने कुछ डिवीजन अलग कर रही है जिसका आईपीओ वह कुछ महीने बाद लानेवाली है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.