प्राइसवॉटरहाउस की पांच भारतीय फर्मों पर रोक

अमेरिका की पूंजी बाजार नियामक संस्था, एसईसी (सिक्यूरिटीज एंड एक्सचेंज कमीशन) ने प्राइस वॉटरहाउस कूपर्स (पीडब्ल्यूसी) की पांच भारतीय सहयोगी फर्मों पर प्रतिबंध लगा दिया है। बता दें कि सत्यम कंप्यूटर सर्विसेज में घोटाले के दौरान प्राइस वॉटर हाउस कूपर्स से जुड़ी फर्में ही उसके लिए स्वतंत्र ऑडिटर का काम कर रही थीं।

पीडब्ल्यूसी की इन भारतीय सहयोगी फर्मों पर लगातार सत्यम के वित्तीय खातों में गड़बड़ी वाला ऑडिट करने का आरोप लगता रहा है। इस वजह से कंपनी में बड़ा अकाउंटिंग घोटाला हुआ जिसे कई सालों तक पकड़ा नहीं जा सका। इसके चलते पीडब्ल्यूसी 60 लाख डॉलर का जुर्माना भरने पर सहमत हुई।
एसईसी की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि पीडब्ल्यूसी की सहयोगी फर्में – लवलॉक एंड लेविस, प्राइस वॉटर हाउस (बैंगलोर), प्राइस वॉटर हाउस एंड कंपनी (बैंगलोर), प्राइस वॉटर हाउस (कोलकाता), प्राइस वॉटर हाउस एंड कंपनी (कोलकाता) की ऑडिट विफलता सिर्फ सत्यम तक ही सीमित नहीं रही है।

बता दें कि भारतीय पूंजी बाजार संस्था, सेबी प्राइस वॉटरहाउस कूपर्स के खिलाफ पहले ही फैसला दे चुकी है कि वह किसी भी लिस्टेड कंपनी का ऑडिट नहीं कर सकती। पीडब्ल्यूसी ने इस आदेश को अदालत में चुनौती दे रखी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.