आंखों की दृष्टि

देखती हैं आंखें, दिखाते हैं हम। माइक्रोस्कोप से देखा तो असंख्य  बैक्टीरिया नजर आ जाते हैं। टेलिस्कोप से देखा तो दृष्टि से ओझल सितारा दिख जाता है। असली सच नंगी आंखों से देखे गए सच से बहुत बड़ा होता है।

1 Comment

  1. एक सत्य के पीछे ढेरों सत्य छिपे होते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.