इतनी कमाई, हादसे, फिर भी बीमा से परहेज!

करीब हफ्ते भर पहले ही खबर आई थी कि हर दिन करीब तीन करोड़ से ज्यादा यात्रियों को ढोनेवाली भारतीय रेल ने पिछले कई सालों से अपना बीमा नहीं करा रखा है और आये-दिन होनेवाली दुर्घटनाओं की भरपाई अपनी जेब से करती है। अब पता चला है कि मुंबई में आतंकवादी हमले का शिकार हुए ओपेरा हाउस व झावेरी बाजार के करीब एक-चौथाई हीरा व आभूषण व्यापारियों ने भी अपना बीमा नहीं करा रखा है।

बॉम्बे बुलियन एसोसिएशन के अध्यक्ष पृथ्वीराज कोठारी का कहना है, “पाया गया है कि झावेरी बाजार व ओपेरा हाउस दोनों ही जगहों के 20-25 फीसदी से ज्यादा व्यापारियों ने अपना बीमा नहीं करा रखा है। हम अपने सराफा व्यापारियों व सहयोगियों को सतर्क कर चुके हैं कि इस धंधे में उतरने से पहले खुद का बीमा करा लें।”

बात दें कि झावेरी बाजार अब तक तीन बार आतंकवादी हमलों का शिकार बन चुका है। वहां कम से कम 5000 सोने-चांदी व आभूषण की दुकानें हैं। ओपेरा हाउस भी देश भर के हीरा व्यापार का केंद्र बना हुआ है। अब हीरा व्यापारी वहां से निकल बांद्रा-कुरला कॉम्प्लेक्स स्थित नए हीरा एक्सचेंज में जाने की सोच रहे हैं। लेकिन कोठारी का कहना है कि जगह बदलने से हादसों से तो छुटकारा नहीं मिल सकता। यह मानसिकता की बात है। इसलिए वे सोच रहे हैं कि एसोसिएशन के हर सदस्य के लिए बीमा लेना अनिवार्य कर दिया जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.