निश्चित अनिश्चितता

जिंदगी में अनिश्चितता है तो बदलाव भी शाश्वत है। फिर भी हम निरंतर निश्चितता व स्थायित्व की तलाश में लगे रहते हैं। हमारी चाहत व हकीकत के बीच संघर्ष निरंतर चलता है। तभी एक दिन हम निश्चित मृत्यु तक पहुंचकर मिट जाते हैं।

1 Comment

  1. ho sakta h yeh bhi ki hamare nirantarta ka karan hi yeh ho !!! kon janta h !!!

Leave a Reply

Your email address will not be published.