कम तो कस दो, बेहतर तो उठा दो!

डेरिवेटिव सौदों में कैश सेटलमेंट की मार के अलावा ऐसा कुछ भी नहीं है जो पिछले दो दिनों में बदला हो। लेकिन बाजार हिचकोले खा रहा है। निफ्टी कल 1.58 फीसदी गिरा तो आज 2.02 फीसदी बढ़ गया। डिश टीवी के नतीजों में ऐसी कुछ भी खराबी नहीं थी। लेकिन चूंकि इसमें बाजार के तमाम ट्रेडर 83 रुपए पर लांग हो गए थे, इसलिए बाजार को खिलानेवालों ने इसे 73.70 रुपए तक तोड़ डाला।

इसी तरह क्रॉम्प्टन ग्रीव्स में भी पूरा बाजार बढ़ने की उम्मीद में बड़े स्तर पर खरीद किए पड़ा था। हमने दिन की शुरुआत में ही इसमें शॉर्ट सौदों की सलाह दी थी और निराशाजनक नतीजों के चलते इसका शेयर 12.23 फीसदी गिर गया। अभी इस सेटलमेंट के बाकी चार दिनों में और भी ऐसे शिकार होने हैं जिनके बारे में हमें सावधान रहना चाहिए।

वैसे, कमजोर बाजार में अमूमन ऐसा होता ही है। कोई स्टॉक अपेक्षा के कमतर रहे तो उसे कस दो और अगर कोई उम्मीद से बेहतर है तो उसे चढ़ जाने दो। केवल वही स्टॉक्स बाजार की गिरफ्त को तोड़ने में कामयाब होते हैं जो पूरी तरह मजबूत हाथों की पकड़ में हैं। इसके दो उदाहरण हैं क्रिसिल और हीरो मोटोकॉर्प। क्रिसिल आज 2.94 फीसदी बढ़ा है तो हीरो मोटोकॉर्प 4.13 फीसदी।

मेरा सुझाव यह है कि जब तक बाजार, यानी निफ्टी 5170 के ऊपर नहीं जाता, तब तक ट्रेडिंग की ललक को दबाने की कोशिश करें। हमने महिंद्रा एंड महिंद्रा, रिलायंस इंडस्ट्रीज, निफ्टी व बॉम्बे डाईंग में आज बढ़ने की उम्मीद में खरीद या लांग रहने की सलाह दी और ये सभी स्टॉक्स बाजार से आगे निकलने में कामयाब रहे। खासकर, रिलायंस ने मिंट की इस खबर के बावजूद बाजार को मात दे दी कि सेबी कंपनी के प्रबंधन पर इनसाइडर ट्रेडिंग के मामले में 2052 करोड़ रुपए की पेनाल्टी लगा सकती है।

यह एक बार फिर साबित करता है कि आपको सही मौके का फायदा उठाने से कतई नहीं चूकना चाहिए। आज हम सेंचुरी टेक्सटाइल्स, पिपावाव, जेट एयरवेज और डीबी रीयल्टी को छोड़कर कोई भी पोजिशन आगे नहीं ले गए।

दुनिया में ऐसी कोई ताकत नहीं है जो उच्च, शुद्ध, सरल व उपयोगी जीवन के असर को मिटा सके।

(चमत्कार चक्री एक अनाम शख्सियत है। वह बाजार की रग-रग से वाकिफ है। लेकिन फालतू के कानूनी लफड़ों में नहीं पड़ना चाहता। वह अंदर की बातें आपके सामने रखता है। लेकिन इनकी सत्यता की पुष्टि अपने स्तर पर जरूर कर लें। आपके निवेश फैसले के लिए अर्थकाम किसी भी सूरत में जिम्मेदार नहीं होगा। यह मूलत: सीएनआई रिसर्च का कॉलम है, जिसे हम यहां आपकी शिक्षा के लिए पेश कर रहे हैं)

Leave a Reply

Your email address will not be published.