सत्ता की शरण

दुनिया में हर अच्छी चीज का दुरुपयोग हुआ है। इसके लिए दोषी वो चीज नहीं, बल्कि वे चालबाज इंसान हैं जो अपने हितसाधन की अंधी दौड़ में लगे हैं। इनकी अंधेरगर्दी को रोकने के लिए कानून बनते हैं। पर इनसे बचने के लिए वे सत्ता में आ जाते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.