ऑपरेटर रोलओवर के मूड में नहीं

कल और आज कुल मिलाकर महज 10,000 करोड़ रुपए के ही सौदों का रोलओवर हुआ है। ऑपरेटर अपनी पोजिशन आगे ले जाने के मूड में नहीं है। कल निफ्टी में 6100 के ऊपर बहुत से खिलाड़ी टेक्निकल चार्टों से निकले यकीन के आधार पर लांग हो गए, यानी उन्होंने खरीद के सौदे कर लिए। लेकिन इस बार तकनीकी गलती की वजह से बाजार ने उन्हें अपनी राय बदलने को बाध्य कर दिया। इतना तय है कि 6050 के स्तर पर शॉर्ट सौदे होंगे और सोमवार को बाजार में व्यापक आधार वाली तेजी देखी जा सकती है। आपको लगेगा कि यह तेजी का विस्तार हो रहा है। लेकिन मेरे लिए यह शुद्ध रूप से शतरंज का खेल है। दो घर आगे तो एक घर पीछे।

वैसे, हम लोगों को इन तमाम चीजों की जरूरत नहीं पड़ती। हमारा दिमाग और ध्येय एकदम साफ है। खरीदो या बेचो, मगर बगैर किसी किंतु-परंतु के। हिंदुस्तान ऑयल, एस्सार ऑयल और आरआईएल, तीनों ने पिछले दो दिनों में अपना असली जलवा दिखा दिया। इस संदर्भ में आप एमआरपीएल पर भी नजर रख सकते हैं।

जिंदल सॉ नवंबर के दूसरे हफ्ते में डीमर्जर की घोषणा कर सकती है, हालांकि कंपनी की तरफ से एक बिजनेस चैनल पर इसका खंडन किया जा चुका है। आपके लिए केवल इतना भर संकेत है कि जो कंपनी अलग की जा सकती है, वह है जिंदल आईटीएफ। यह आईटीएफ क्या है? जब यह होगा तो सारे सवालों का जवाब मिल जाएगा। हालांकि यह भी संभावना है कि जिंदल समूह इस कदम को टाल दे क्योंकि सार्वजनिक घोषणा करने से पहले उसे इस फैसले में अपने निवेशकों को शामिल करना होगा।

एक बात गांठ बांध लें कि बाजार केवल लंबे समय के खिलाड़ियों के लिए है। यहां से निकलना बहुत आसान है। अपना सब कुछ बेचकर निकल लें। कोई भी आपको ऐसा करने से नहीं रोक सकता। डर आपको हमेशा ऐसा करने को प्रेरित करेगा। ऊपर से ऑपरेटरों का भूत आपकी गरदन पर तलवार की तरह लटका है। केवल इसी एक वजह से आप एचएनआई (हाई नेटवर्थ इंडीविजुअल) नहीं बन सकते। इसलिए बाजार वास्तव में एचएनआई, एफआईआई, डीआईआई और ऑपरेटरों का मैदान बना हुआ है।

दलाल स्ट्रीट हलाल स्ट्रीट में बदले, इससे पहले ही हमने मनोरंजक स्क्रिप्ट लिखने के लिए एक डायलॉग लेखक को काम पर रख लिया है। वह आपको अपने हंसोड़ और मजाकिया अंदाज से गुदगुदाता रहेगा।

इंसान कितना भी पस्त, कितना भी तुच्छ या बुद्धिमान हो, उसे यही लगता है कि खुशी उसका जन्मसिद्ध अधिकार है।

(चमत्कार चक्री एक अनाम शख्सियत है। वह बाजार की रग-रग से वाकिफ हैलेकिन फालतू के कानूनी लफड़ों में नहीं उलझना चाहता। सलाह देना उसका काम है। लेकिन निवेश का निर्णय पूरी तरह आपका होगा और चक्री या अर्थकाम किसी भी सूरत में इसके लिए जिम्मेदार नहीं होगा। यह कॉलम मूलत: सीएनआई रिसर्च से लिया जा रहा है)

Leave a Reply

Your email address will not be published.