जापानी सुनामी से भारत व बाजार को खतरा नहीं

जापान में 8.9 तीव्रता के भूकंप और सुनामी के बाद दुनिया भर के समुद्रतटीय इलाकों में सुनामी का खतरा मंडराने लगा है। लेकिन इससे न तो भारत को कोई खतरा है और न ही इससे भारतीय शेयर पर नकारात्मक असर पड़ने वाला है।

फिलहाल जापान के पूरे प्रशांत महासागर के तट के लिए सुनामी की चेतावनी जारी की है। गुआम, ताइवान, फिलीपींस, इंडोनेशिया और अमेरिकी राज्य हवाई को सुनामी पर नजर रखने को कहा गया है। इंडोनेशिया, न्यूजीलैंड और ऑस्ट्रेलिया भी सुनामी की चपेट में आ सकते हैं। बता दें कि शुक्रवार को आया भूकंप जापान के इतिहास का सबसे बड़ा भूकंप है। इससे पहले 1993 में वहां 8.1 तीव्रता का भूकंप आया था।

जापान में आए भीषण भूकंप के बाद हर तरफ चिंता है लेकिन भारत के लोगों को इससे भयभीत होने की जरूरत नहीं है। भारत सरकार के पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय के सचिव शैलेश नायक का कहना है कि भारत में सुनामी का खतरा नहीं है इसलिए लोगों को घबराने की जरूरत नहीं है। उन्होंने कहा कि पूर्वी एशियाई देशों में सुनामी की चेतावनी जारी की गई है न कि हिन्द महासागर में।

उधर, मशहूर इनवेस्टमेंट बैंक जेपी मॉरगन के प्रबंध निदेशक एड्रियन मोवाट ने कहा है कि जापान की प्राकृतिक आपदा से लोगों का भारत में निवेश करने का फैसला नहीं बदल सकता है। उन्होंने प्रमुख बिजनेस चैनल ET NOW को दिए गए एक इंटरव्यू में कहा, “क्या इससे भारत अर्थव्यवस्था पर कोई फर्क पड़ेगा? मैं ऐसा नहीं मानता। क्या इसने बाजार के सेंटीमेंट पर चोट की है। निश्चित रूप से, बाजार नीचे गया है। लेकिन मैं नहीं समझता कि लोग जापान की इस त्रासदी से भारत में निवेश का अपना फैसला बदल सकते हैं।” शुक्रवार को बीएसई सेंसेक्स में 0.84 फीसदी और एनएसई निफ्टी में 0.89 फीसदी गिरावट दर्ज की गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.