समझदारी हो तो बड़ा नाम और नामा

ट्रेन्ड के साथ चलनेवाले कम कमाते हैं। वहीं, ट्रेन्ड के खिलाफ चलनेवाले या तो जमकर कमाते हैं या डूब जाते हैं। डूबते तब हैं, जब दुस्साहसी भावुकता में आंख मूंदकर रिस्क लेते हैं। गंवाते कम और कमाते तब ज्यादा हैं जब रिस्क को बांधकर चलते हैं। लेकिन जीवन की तरह ट्रेडिंग में भी लीक के खिलाफ चलने के लिए भरपूर माद्दा चाहिए। ऐसे लोग बड़ा नाम और नामा कमाते हैं, बशर्ते समझदारी अपनाएं। अब सोमवार का व्योम…

इस हफ्ते केवल तीन दिन ट्रेडिंग होनी है। गुरुवार व शुक्रवार को बाज़ार महावीर जयंती और गुड फ्राइडे के मौके पर बंद है। बीते हफ्ते बीएसई सेंसेक्स 802 अंक या 2.84 प्रतिशत गिरकर 27,458.64 और एनएसई निफ्टी 230 अंक या 2.68 प्रतिशत गिरकर 8341.40 पर बंद हुआ।

शुक्रवार को निफ्टी लगभग सपाट रहा। लेकिन बाज़ार में अगले 30 दिनों में गिरने के डर या चंचलता का सूचकांक, इंडिया वीआईएक्स 4.37 प्रतिशत घटकर 14.5000 पर बंद हुआ। जानकारों का कहना है कि इस हफ्ते बाज़ार में थोड़ी तेज़ी आ सकती है। लेकिन यह मजबूत नहीं, बल्कि कमज़ोर ही रहेगी।

बीते हफ्ते विदेशी संस्थागत निवेशकों (एफआईआई) ने कैश सेगमेंट में कुल 1126.71 करोड़ रुपए की शुद्ध खरीद की। साथ में देशी निवेशक संस्थाओं (डीआईआई) ने भी 1230.61 करोड़ रुपए की शुद्ध खरीद की। फिर भी बाज़ार गिर गया तो क्यों? डेरिवेटिव सेगमेंट में भी एफआईआई ने 2149.33 करोड़ रुपए की शुद्ध खरीद की। इसमें इंडेक्स फ्यूचर्स में 3168.09 करोड़ रुपए की शुद्ध बिकवाली और इंडेक्स ऑप्शंस में 7270.89 करोड़ रुपए की शुद्ध खरीद का असर शामिल है।

बाहर का हाल: लंदन का फुटसी सूचकांक शुक्रवार को 0.58 प्रतिशत गिरा है, जबकि अमेरिका का S&P 500 सूचकांक 0.24 प्रतिशत और डाउ जोन्स सूचकांक 0.19 प्रतिशत बढ़ा है। आज ऑस्ट्रेलिया का S&P/ASX 200 सूचकांक अपने समय से दोपहर तक 1.23 प्रतिशत गिरा हुआ था। एशिया में दोपहर से पहले तक चीन, जापान, हांगकांग व ताइवान सभी थोड़ी-बहुत ऊपर चल रहे थे। जापान का निक्केई सूचकांक 0.54 प्रतिशत ऊपर था। अपने बाज़ार की छाया सिंगापुर निफ्टी फ्यूचर्स आज भारतीय समय सुबह 8.05 बजे 20 अंक (0.24 प्रतिशत) ऊपर था। इससे शुरुआती बढ़त के संकेत मिलते हैं।

नज़र निफ्टी पर

पिछला बंद शुक्र का उच्चतम शुक्र का न्यूनतम शुक्र का बंद संभावित दायरा
8342.15 8413.20 8269.15 8341.40 8335/8455

 

डॉ. रेड्डीज़ लैब में ज्यादा संभावना जल्दी ही 3415 से 3620 तक पहुंचने की है। पावर फाइनेंस कॉरपोेरेशन पर नज़र रखिए। यह 260 के आसपास से बढ़ना शुरू कर सकता है और हफ्ते दस दिन में 290 तक जा सकता है। भारत फोर्ज में अधिक प्रायिकता 1222 से कुछ दिनों में उठकर 1335 तक जाने की है। इन सलाहों को अपने अभ्यास के लिए इस्तेमाल करें।

डाबर इंडिया का एक रुपए अंकित मूल्य का शेयर शुक्रवार को बीएसई में 264.85 रुपए और एनएसई में 264.80 रुपए पर बंद हुआ है। इसमें थोड़ी गिरावट आ सकती है। इसलिए इसे 261-262 पर खरीदना सही रहेगा। वहां से ज्यादा संभावना हफ्ते-दस दिन में इसके 285 रुपए तक जाने की है। इस तरह स्विंग ट्रेड से इसमें आठ प्रतिशत से ज्यादा कमाने का मौका है। लेकिन 258 रुपए पर स्टॉप-लॉस लगाकर चलें।

डाबर इंडिया [बीएसई – 500096, एनएसई – DABUR]

शुक्र का बंद एंट्री भाव स्टॉप लॉस 52 हफ्ते का उच्चतम/न्यूनतम भावी उम्मीद अपेक्षित रिटर्न
264.80 262 258 287/175.80 285 रुपए 8.78%

(भाव एनएसई के)

स्थाई सलाह: कभी भी यहां बताई सलाह पर तुरंत ट्रेडिंग में न जुट जाएं। पहले बाज़ार खुलने के कुछ देर तक इंतज़ार करें। देखें कि रुझान/ट्रेंड क्या है। कभी-कभी ट्रेंड होता तो वही है, लेकिन थोड़ी देर बाद शुरू होता है। इसलिए उसे पकड़ने पर ध्यान रहे। यह भी ध्यान रखें कि शेयर बाज़ार में मौके एक बार नहीं, बार-बार मिलते हैं क्योंकि यहां भाव लहरों के रूप में चलते हैं। मौके भागे नहीं जा रहे हैं। अभी कोई मौका चूक गया तो बाद में दबोच लेंगे। हमेशा अपनी ट्रेडिंग पूंजी बचाकर चलें।

डिस्क्लेमर: शेयर बाजार के निवेश में सबसे ज्यादा रिस्क है। इसलिए निवेश का फैसला काफी सोच-विचार और रिसर्च के बाद ही करें। आपके निवेश के लिए हम किसी भी रूप में जिम्मेदार नहीं होंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.