यहां क्यों है घोटालेबाजों से मोहब्बत

यूरोप के मसले ने उन सभी निवेशकों व ट्रेडरों को चरका दे दिया जो उस बहस और शॉर्ट सेलिंग करते रहे। निफ्टी 4700 से सुधरता हुआ 5350 तक आ चुका है और अब 5500 के पार जाने को तैयार है। इसके आसपास पहुंचते ही टेक्निकल एनालिसिस के हिसाब से एफआईआई खरीद की भंगिमा अपना लेंगे क्योंकि 200 डीएमए (200 दिनों के मूविंग औसत) अभी 5406 है और बाजार के इसके ऊपर जाने पर आप शॉर्ट नहीं रह सकते।

जो लोग निफ्टी में 4200 का लक्ष्य दे रहे थे, आज उनकी बोलती बंद है। एक प्रमुख एफआईआई ने एसबीआई को डाउनग्रेड करने के बाद कहा है कि यह अगले 15 दिनों में जमींदोज हो जाएगा। बहुत से डीआईआई और एचएनआई पर इसका असर हुआ है और यह बाजार के स्वास्थ्य के लिए अच्छा नहीं है। अगर उक्त ब्रोकिंग हाउस एसबीआई में ट्रेड नहीं कर रहा तो उसकी टिप्पणी को निष्पक्ष माना जा सकता है। नहीं तो सेबी के सुपरिभाषित नियमों के तहत उसके खिलाफ गंभीर कार्रवाई की जानी चाहिए। क्या हुआ तो यह टिप्पणी करनेवाला एफआईआई है? जो भी हो, एसबीआई आनेवाले महीनों में 2500 रुपए तक जानेवाला है क्योंकि मुझे यकीन है कि यह सितंबर तिमाही के नतीजों में बाजार की उम्मीद को मात करने जा रहा है। इसके असर से आईडीबीआई बैंक भी बहुत तेजी से बढ़कर 150 रुपए पर पहुंच जाएगा।

जब सरकार 2जी स्पेक्ट्रम के घोटालेबाजों को जेल भेज सकती है तो पूंजी बाजार में दंड का कोई प्रावधान क्यों नहीं है जहां कुछ एफआईआई समूह निजी फायदे के लिए बाजार को प्रभावित करने की कोशिश करते हैं। खैर, आज हम बाजार खुलने के कुछ देर बाद ही निफ्टी को 5325 के ऊपर जाता देख चुके हैं। लेकिन बाजार बंद होते-होते यह 5285 तक आ गया। इस दौरान रिलायंस इंडस्ट्रीज (आरआईएल) का ग्राफ भी नीचे आ गया।

सोमवार को छुट्टी है। गुरुवार को भी छुट्टी है। कोई भी अंतरराष्ट्रीय बाजार के चार दिनों – शुक्रवार, सोमवार, मंगलवार व बुधवार के असर को कयासबाजी में नहीं छोड़ सकता। वो इतने दिनों शॉर्ट नहीं रह सकता क्योंकि तेजड़िए जानते हैं कि वे इस बार गदर काट सकते हैं और इसके लिए उनको चाहिए कि मंगलवार को बाजार सीधे 5420 के ऊपर खुले। तभी तेजड़ियों के लिए सब कुशल मंगल हो पाएगा और शॉर्ट रहनेवाले तब विलाप करेंगे।

चीन जल्दी ही ब्याज दरों में कमी करेगी क्योंकि मुद्रास्फीति पर लगाम लगने लगी है। यह चोट खाए सारे मेटल स्टॉक्स के लिए बड़ी सकारात्मक बात है। ऐसे में सबसे अच्छे स्टॉक्स हो सकते हैं – जिंदल स्टील, जिंदल सॉ, टाटा स्टील, हिंडाल्को (144 के ऊपर ब्रेकआउट, लक्ष्य 180 रुपए का), स्टरलाइट व सेसा गोवा। टाटा स्टील जल्दी ही 550 रुपए पर पहुंच सकता है।

सिम्फनी ने आप लोगों को निराश नहीं किया है और जल्दी ही आप सिम्फनी को 2000 रुपए पर पहुंचा देखेंगे क्योंकि यह 1450 के प्रतिरोध स्तर को कल तोड़ चुका है। इसमें आती उड़ान का आनंद लीजिए। डीबी रीयल्टी व फिलाटेक्स अब बाजार को पछाड़ने लगे हैं। इधर मेरे एक दोस्त ने मेरे सामने आंकड़े फेंके कि मुंबई में 32,000 घर अनबिके हैं और उन्हें कोई लेने वाला नहीं है। फिर भी मेरा कहना है कि रीयल्टी स्टॉक्स को खरीदनेवाले तमाम दिग्गज बाजार में हैं। फ्रंट-रनर फिर से सक्रिय हो गए हैं और उन्होंने अपने निजी खातों में आईबी रीयल्टी, डीएलएफ, एचडीआईएल, बॉम्बे डाईंग व सेंचुरी वगैरह में अच्छी-खासी खरीद की है। यह साफ संकेत इस बात का है कि इस सेक्टर में अब धमाका होने जा रहा है। खैर, शुक्रिया मेरे दोस्त, जानकारी देने के लिए।

ज़िंदगी बड़े दिलचस्प खेल करती है। यहां अगर आप सर्वश्रेष्ठ से कम पर नहीं मानते तो अक्सर वो चीज आपको मिल जाती है।

(चमत्कार चक्री एक अनाम शख्सियत है। वह बाजार की रग-रग से वाकिफ है। लेकिन फालतू के कानूनी लफड़ों में नहीं पड़ना चाहता। इसलिए अनाम है। वह अंदर की बातें आपके सामने रखता है। लेकिन उसमें बड़बोलापन हो सकता है। आपके निवेश फैसलों के लिए अर्थकाम किसी भी हाल में जिम्मेदार नहीं होगा। यह मूलत: सीएनआई रिसर्च का कॉलम है, जिसे हम यहां आपकी शिक्षा के लिए पेश कर रहे हैं)

Leave a Reply

Your email address will not be published.