यथास्थिति को मानो मत। उसे चिंदी-चिंदी करने के लिए लड़ो। इसलिए नहीं कि हम नकारवादी या आस्थाहीन हैं, बल्कि इसलिए कि हमें मानवीय क्षमता पर अगाध आस्था है; हमारी दृढ़ मान्यता है कि हालात को बेहतर बनाया जा सकता है।और भीऔर भी

कोई भी काम इतना नया नहीं होता कि थोड़ा-बहुत सीखने के लिए पुराने अनुभव न हों और कोई भी काम इतना पुराना नहीं होता कि कोई खब्ती दावा कर सके कि यह काम तो हम बहुत पहले आजमा कर फेंक चुके हैं।और भीऔर भी