विकास कभी रैखिक नहीं होता। वह छल्लों में चलता है। हर छल्ला पहले से ऊपर, पहले से बड़ा होता है। लेकिन पुराने छल्ले के ऊपर वह इस तरह चढ़ा रहता है कि अक्सर हमें ठहराव का भ्रम हो जाता है।और भीऔर भी