देखना कभी खत्म नहीं होता। देखने के अनंत संदर्भ हैं। कोई भी प्रेक्षण अंतिम नहीं। एक सापेक्ष परिप्रेक्ष्य में जो महान है, वही दूसरे परिप्रेक्ष्य में अधम हो सकता है। सफेद भिन्न परिप्रेक्ष्य में स्याह है, श्रेष्ठ निम्न है, सभ्य बर्बर और पूरब पश्चिम हो सकता है।और भीऔर भी