इतना सारा जानकर करेंगे क्या? अगले जन्म में तो फिर सिफर से शुरू करना है! मृत्यु के इस भाव और भय से जिएंगे तो सारा ज्ञान निरर्थक लगेगा। लेकिन जीवन के हर पल को डूबकर जीना है तो ज्ञान का हर क़तरा जीने को सघन बना देगा।और भीऔर भी

इस जहां में सिर्फ एक चीज है जिस पर इंसान का वश नहीं है। वो है समय और उसी से संचालित होता जीवन-मरण का चक्र। बाकी किसी भी चीज की काट नियमों को समझकर निकाली जा सकती है।और भीऔर भी

इंसान के अलावा पेड़-पौधों से लेकर किसी भी अन्य जीव-जंतु को पड़ी नहीं रहती है कि इस जन्म या उस जन्म में क्या होगा। सभी यंत्रवत जिए चले जाते हैं। केवल इंसान को ही अपने होने का भान रहता है।और भीऔर भी