अर्थव्यवस्था और सरकार दोनों का मूल मकसद अवाम की सेवा करना है। लेकिन भ्रष्ट होते ही वे उल्टा काम करने लगती है और लोगों को निचोड़कर उनका धन व सत्ता कुछ हाथों में केंद्रित करने लग जाती हैं।और भीऔर भी

हमारा मन कहीं और भागता है तो विचारों के जरिए हम उसे पकड़ते हैं, संतुलित करते हैं। इन विचारों का निरपेक्ष सत्य होना कतई जरूरी नहीं। इनकी तात्कालिक भूमिका है मन के भटकाव को रोकना।और भीऔर भी