इस साल का नोबेल शांति पुरस्कार तीन महिलाओं को संयुक्त रूप से दिया गया है। इनमें से एलेन जॉनसन सरलीफ और लेमाह गबोवी लाइबेरिया की हैं, जबकि तवाक्कुल करमान यमन की रहने वाली हैं। पांच सदस्यों वाली नोबेल समिति ने शुक्रवार को इसकी घोषणा करते हुए कहा है कि इन तीनों ने महिलाओं की सुरक्षा और उनके अधिकारों के लिए जिस तरह से अहिंसक संघर्ष किया है, उसकी वजह से वे इस पुरस्कार की हक़दार हैं। नोबेलऔरऔर भी

गुवाहाटी के आर्कबिशप थॉमस मेनाम परामपिल को पूर्वोत्तर के जातीय समुदायों में शांति लाने के प्रयास को मान्यता देते हुए प्रतिष्ठित नोबेल शांति पुरस्कार के लिए नामांकित किया गया है। आर्कबिशप का नाम इटली की लोकप्रिय पत्रिका ‘इल बोलेतिनो सालेसिआनो’ ने नामांकित किया है। पत्रिका ने जून महीने के अंक में मेनाम परामपिल पर चार पन्ने की स्टोरी प्रकाशित की है। उसने इसका शीषर्क दिया है – ए बिशप फॉर नोबेल प्राइज। उधर खुद मेनाम परामपिल काऔरऔर भी