इजरायल के वैज्ञानिक डेनियल शेख्तमैन को रसायन शास्त्र में उल्लेखनीय योगदान के लिए वर्ष 2011 का नोबेल पुरस्कार दिया गया है। इजरायल प्रौद्योगिकी संस्थान से जुड़े शेख्तमैन ने अप्रैल 1982 में क्रिस्टल में परमाणु संरचना की खोज की। उनकी खोज का सार यह है कि क्रिस्टल में परमाणु ऐसे पैटर्न में गुंथे हैं जहां कोई दोहराव नहीं होता। समाचार एजेंसी एएफपी के मुताबिक स्टॉकहोम स्थित रॉयल स्वीडिश एकेडमी आफ साइंस के स्थायी सचिव स्टैफन नॉरमार्क ने एकऔरऔर भी

इस बार चिकित्सा क्षेत्र का नोबेल पुरस्कार तीन ऐसे वैज्ञानिकों को दिया गया है जिन्होंने पता लगाया है कि शरीर की प्रतिरोधक क्षमता कैसे काम करती है। ये तीन वैज्ञानिक हैं – अमेरिका के ब्रूस ब्यूटलर, लक्जमबर्ग के जूल्स हॉफमैन और कनाडा के राल्फ स्टाइनमैन। इन तीनों को संयुक्त रूप से वर्ष 2011 का चिकित्सा क्षेत्र का नोबल पुरस्कार देने की घोषणा सोमवार को की गई। पुरस्कार देने वाली स्वीडन की संस्था कैरोलिन्सका इंस्टीट्यूट ने एक बयानऔरऔर भी