गुरुत्वाकर्षण और विद्युत चुम्बकीय शक्तियों से ही पूरी सृष्टि चलती है। बाकी सारी शक्तियां इन्हीं का कोई न कोई रूप हैं। इनके अलावा कोई अदृश्य शक्ति नहीं। ये शक्तियां नियमबद्ध होकर चलती हैं। कभी व्यक्ति-व्यक्ति का भेद नहीं करतीं।और भीऔर भी

ये सृष्टि एक मिलीजुली कोशिश का नतीजा है। सूक्ष्म से सूक्ष्म कणों ने भी नियमबद्ध होकर बेहद तार्किक तरीके से इसको रचने में अपना भरपूर योगदान दिया है। ये दुनिया, ये ब्रह्माण्ड इसी कोशिश और कुछ प्राकृतिक नियमों का उद्घोष भर है।और भीऔर भी

चीजें अपने-आप में बड़ी सरल होती हैं। नियमबद्ध तरीके से चलती हैं। बड़ी क्रमबद्धता होती है उनमें। लेकिन हमारी सोच और अहंकार के चलते वे उलझी हुई नज़र आती हैं। सही नज़रिया मिलते ही सारा उलझाव मिट जाता है।और भीऔर भी