चमत्कार से इनकार नहीं। लॉटरी से भी कोई इनकार नहीं। लेकिन अक्सर चमत्कार का इंतजार करते-करते पूरी जिंदगी बीत जाती है। इस बीच चमत्कार और लॉटरी का धंधा करनेवाले जरूर मालामाल हो जाते हैं।और भीऔर भी

सच कहें तो धंधा और कुछ नहीं, बस दूसरों से जुड़ने की कोशिश है। उस समान चीज को पकड़ने का उपक्रम है जो सबमें है, सबकी जरूरत है। कंपनियां सर्वे से इसका पता लगाती हैं और ज्ञानी अपनी अंतर्दृष्टि से।और भीऔर भी