ये सही, वो गलत। ये अच्छा, वो बुरा। अनजाने में ही नैतिकता की एक तराजू लिए चलते हैं हम। एक माइंड सेट बन जाता है हमारा। लेकिन नया कुछ पाने के लिए पुराने माइंट सेट को ठोंकना-पीटना जरूरी होता है।और भीऔर भी