बॉम्बे डाईंग बनेगा ब्लॉक-बस्टर

इनफोसिस ने शानदार नतीजे घोषित किए और नए वित्त वर्ष के लिए संभावनाएं भी अच्छी पेश कीं। हालांकि पहली तिमाही को लेकर कंपनी ज्यादा आशावान नहीं है। इसी के चलते बाजार कमजोरी के साथ खुला। लेकिन जल्दी ही इनफोसिस इससे उबर आया और उसमें भारी मात्रा में कारोबार हुआ। इनफोसिस के नतीजों में ऐसा कुछ खास नहीं है कि उसके स्टॉक के बारे में फिर से रेटिंग की जाए।

जैसा कि मैने कल अपने कॉलम में जानकार सूत्रों के हवाले बताया था कि इस शेयर में पर्याप्त खरीद की स्थिति है। आज तमाम ट्रेडर इनफोसिस में 2650 रुपए के भाव तक शॉर्ट सौदे करते रहे। लेकिन भाव जब 2790 रुपए तक ऊंचा चला गया तो उनका बेली डांस शुरू हो गया। खैर, मुझे लगता है कि इनफोसिस की तरह से कुछ महत्वपूर्ण घोषणा होनी अभी बाकी है। यह बोनस या ऐसी कोई दूसरी बात हो सकती है। इसके बाद यह शेयर 3000 रुपए के करीब पहुंच सकता है।

हमने कुछ दिन पहले ही आईएफसीआई के बारे में भी खबर दी थी और आज नाबार्ड (राष्ट्रीय कृषि एवं ग्रामीण विकास बैंक) ने दिखा दिया कि वह आईएफसीआई को अधिग्रहण करने में भारी दिलचस्पी रखता है। आईसीआईसीआई बैंक के बारे में हमने कहा था कि खराब आस्तियों के चलते इसे डाउनग्रेड किया जा सकता है और आज ऐसा हो गया।

बॉम्बे डाईंग के बारे में जब से सीएनआई ने 960 रुपए के लक्ष्य के साथ नई रिपोर्ट जारी की है, उसके बाद बॉम्बे डाईंग एक बार फिर टॉप गियर में आ गया लगता है। पहले हमने इसमें 130 रुपए पर खरीद की सिफारिश की थी और तब यब ब्लॉक-बस्टर बन गया था। इस बार भी यह शेयर ब्लॉक-बस्टर बनेगा।

हम निफ्टी को लेकर बेहद सकारात्मक हैं और हमारा मानना है कि इनफोसिस के नतीजों जैसी अहम घटना जिस तरह शांति से गुजर गई, उसका मतलब ही है कि अब बाजार पूरी ताकत से निफ्टी के 5600 के स्तर की तरफ बढ़ रहा है। इस तेजी में योगदान होगा मेटल और ऑटो सेक्टर के शेयरों का।

अब भी सबसे अच्छा दांव एसएमई (लघु व मध्यम उद्योग) सेगमेंट का है और इनके शेयरों में काफी मूल्य छिपा है। इसके लिए आपको अपनी सबसे कीमती दौलत का इस्तेमाल करना चाहिए और वह है आपका दिमाग।

यूं तो इंसान का दिमाग महज तीन पाउंड का होता है जिसे आप अपने हाथ में पकड़ सकते हैं। लेकिन इसकी ताकत इतनी है कि यह ब्रह्मांड में खरबों प्रकाश वर्ष दूर तक की चीजों को महसूस व जज्ब कर सकता है।

(चमत्कार चक्री एक अनाम शख्सियत है। वह बाजार की रग-रग से वाकिफ है लेकिन फालतू के वैधानिक लफड़ों में नहीं उलझना चाहता। सलाह देना उसका काम है। लेकिन निवेश का निर्णय पूरी तरह आपका होगा और चक्री किसी भी सूरत में इसके लिए जिम्मेदार नहीं होगा। यह कॉलम मूलत: सीएनआई रिसर्च से लिया जा रहा है)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *