बढ़ने को बेताब है कावेरी टेलिकॉम

कावेरी टेलिकॉम प्रोडक्ट्स में इस समय आग-सी लगी हुई है। बुधवार को सुबह नौ बजे के आसपास इसमें खरीद की सलाह आई और सीधे खुला ही पिछले बंद भाव 90.60 रुपए से 2.40 रुपए बढ़कर 93 रुपए पर। फिर पौने दस नहीं बजे थे कि यह 4.50 रुपये की बढ़त के साथ 52 हफ्तों के शिखर 95.10 रुपए पर जा पहुंचा। चूंकि यह बढ़त पिछले बंद भाव से 4.97 फीसदी अधिक है तो 5 फीसदी सर्किट ब्रेकर की सीमा होने के कारण फौरन इसमें ट्रेडिंग रुक गई। गुरुवार को भी यही सिलसिला चल सकता है। कारण यह है कि बाजार के सक्रिय निवेशकों को लगता है कि इस बार के सालाना नतीजों में इसका प्रति शेयर लाभ (ईपीएस) 30 रुपए हो सकता है, जबकि पिछले वित्त वर्ष में इसका ईपीएस 11.27 रुपए था। इस चक्कर में सभी को भरोसा है कि इसका बाजार भाव जल्दी ही 125 रुपए पर जा सकता है।

कंपनी फंडामेंटली भी मजबूत है। वह टेलिकॉम उपकरण बनाती है। आईटीआई, श्याम टेलिकॉम और पंजाब कम्युनिकशंस से उसकी तुलना की जाती है। कावेरी टेलिकॉम का परिचालन लाभ मार्जिन पिछली तिमाही में 31.83 फीसदी रहा है तो श्याम टेलिकॉम का 2.42 फीसदी, पंजाब कम्युनिकेशंस का 0.91 फीसदी और आईटीआई का तो ऋणात्मक में 3.19 फीसदी रहा है। कंपनी ने दिसंबर 2009 में खत्म तिमाही में 52.82 करोड़ रुपए की आय पर 9.06 करोड़ रुपए का शुद्ध लाभ कमाया है। साल की आखिरी तिमाही में उसके शानदार नतीजों के अनुमान में इस स्टॉक का आकर्षण बढ़ गया है।

कंपनी का मुख्यालय बैंगलोर में है। उसकी कुल चुकता पूंजी 10.06 करोड़ रुपए है जो 10 रुपए अंकित मूल्य के शेयरों में बंटी हुई है। इसमें प्रवर्तकों की हिस्सेदारी केवल 14.61 फीसदी है। विदेशी संस्थागत निवेशकों (एफआईआई) का निवेश कंपनी में 1.46 फीसदी है। इस तरह कंपनी की 83.93 फीसदी पब्लिक के पास है। कंपनी काफी प्रोफेशनली मैनेज्ड है। सी शिवकुमार रेड्डी इसके प्रबंध निदेशक हैं। स्टॉक एक्सचेंजों पर दी गई जानकारी के मुताबिक पिछले साल 5 मई को एम एम गणेश ने कंपनी के एक लाख 44 हजार 250 शेयर एकमुश्त बेचे थे। तब इस शेयर का दाम 30-35 रुपए चल रहा था। मालूम हो कि आज से ठीक साल भर पहले 8 अप्रैल 2009 को इस शेयर ने 29.35 रुपए का न्यूनतम स्तर छुआ था।

Leave a Reply

Your email address will not be published.