एएमडी इंडस्ट्रीज दुरुस्त है बंधुवर

यूं तो हमारे शेयर बाजारों में जिन 2500 से ज्यादा कंपनियों में रोज ट्रेडिग होती है, उसमें से मुझे लगता है कि तीन चौथाई निवेश के काबिल हैं। अर्थव्यवस्था की हालत दुरुस्त रही तो लंबे समय में ये सभी अपने शेयरधारकों को फायदा देंगी। लेकिन कभी-कभी कुछ अच्छी खबरें शेयरों को हवा दे देती हैं। जैसे, हमने ठीक सात दिन पहले बर्जर पेंट्स को कुछ सकारात्मक खबरों के आधार पर खरीदने की सिफारिश की थी। तब इसका भाव 60.85 रुपए था। इस दौरान बाजार में चल रही गिरावट के बीच भी कल तक यह 6.73 फीसदी बढ़कर 64.95 रुपए पर बंद हुआ है। ऐसी ही एक अन्य कंपनी है एएमडी इंडस्ट्रीज। इसके शेयर बीएसई व एनएसई दोनों में लिस्टेड हैं।

एएमडी इंडस्ट्रीज का शेयर बुधवार को बीएसई में 4.34 फीसदी गिरकर 23.15 रुपए और एनएसई में 2.70 फीसदी गिरकर 23.20 रुपए पर बंद हुआ है। इस शेयर का अंकित मूल्य 10 रुपए है और आपको शायद यकीन न आए कि इसकी बुक वैल्यू 57.95 रुपए है। शेयर का टीटीएम ईपीएस 3.63 रुपए है और इस आधार पर उसका पी/ई अनुपात 6.37 निकलता है। इसी के उद्योग की दूसरी कंपनी एसकेएफ इंडिया का पी/ई अनुपात 19.27 चल रहा है। जाहिर है मूलभूत मजबूती के आधार पर एएमडी इंडस्ट्रीज का शेयर लिया जा सकता है। लंबे समय में तो यह फायदा देगा ही। खबरें ऐसी हैं कि थोड़े समय में भी यह अच्छा रिटर्न दे सकता है।

कंपनी मूलतः पैकेजिंग सामग्री बनाती है। लेकिन इसकी प्लास्टिक व टेक्सटाइल डिवीजन भी है। आप पेप्सी से लेकर कोक और बीयर की तमाम बोतलों पर जो क्राउन या ढक्कन देखते हैं, उनमें से ज्यादातर एएमडी के ही बनाए होते हैं। हिंदुस्तान यूनिलीवर भी उसके ग्राहकों में शुमार है। एच एस गुप्ता इस कंपनी के संस्थापक प्रवर्तक हैं और उन्हें पैकेजिंग उद्योग का करीब पांच दशक का अनुभव है। प्रवर्तक गुप्ता परिवार इधर कंपनी में अपनी इक्विटी हिस्सेदारी भी बढ़ा रहा है। पिछले साल कंपनी की इक्विटी में उनकी हिस्सेदारी 55.92 फीसदी थी, अब 58.37 फीसदी हो चुकी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.