अगले ही पल

समय की रफ्तार इतनी तेज तो नहीं हुई है कि ठीक अगले ही पल पिछले पल का होश न रहे। याददाश्त का इतना छोटा हो जाना न तो किसी व्यक्ति के लिए सहीं है और न ही कौम के लिए। इतिहास बोध जरूरी है।

1 Comment

  1. सच है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *